• साल 2019 में दुर्घटना में खो दी थी 2 बच्चियां, दो साल बाद उसी दिन जुड़वा बच्चियों ने लिया जन्म

हादसे के ठीक दो साल बाद 15 सितंबर 2021 को भाग्य लक्ष्मी ने जुड़वा बच्चियों को जन्म दिया है। दंपति ने कहा कि जिस दिन उन्होंने अपनी बेटियों को खोया, उसी दिन जुड़वा बेटियों का होना भगवान का आशीर्वाद है।

आंध्र प्रदेश के विजाग के रहने वाले की टी अप्प्पला राजू और भाग्य लक्ष्मी दंपत्ति को 15 सितंबर को जुड़वा बच्ची हुई है। जोड़े का कहना है कि उन्होंने 15 सितंबर 2019 को आंध्र प्रदेश की गोदावरी नदी में एक नाव दुर्घटना में अपनी दो बेटियों को खो दिया था। उस दुर्घटना में लगभग 50 लोगों की जानें चली गई थीं। जिसमें इस जोड़े की 3 वर्षीय बड़ी बेटी, और 1 वर्षीय छोटी बेटी डूब गई थी।

इसे भी पढ़ें: अपने ही मामा ने 6 साल की भांजी से किया रेप, पुलिस ने किया गिरफ्तार

अब अब हादसे के ठीक दो साल बाद 15 सितंबर 2021 को भाग्य लक्ष्मी ने जुड़वा बच्चियों को जन्म दिया है। दंपति ने कहा कि जिस दिन उन्होंने अपनी बेटियों को खोया, उसी दिन जुड़वा बेटियों का होना भगवान का आशीर्वाद है।अप्प्पला राजू एक गिलास निर्माण कंपनी में काम करने वाला कर्मचारी है। उसने बताया कि यह त्रासदी तब हुई थी जब गोदावरी नदी में एक डबल डेकर लॉन्च एक भंवर के बीच फंसकर डूब गया था। 32 वर्षीय राजू ने बताया कि हादसे के दिन उसे बेचैनी हो रही थी, जिस कारण इस जोड़े ने अंतिम समय में अपनी नाव यात्रा रद्द कर दी थी लेकिन इन्होंने अपनी दो बेटियों धात्री अनन्या( एक) और गीता वैष्णवी (3) को अपने रिश्तेदारों और अपनी सासू मां के साथ श्री राम मंदिर में तीर्थ यात्रा के लिए भेज दिया था। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली बनी रेप कैपिटल! हत्या के सबसे अधिक मामले आए राष्ट्रीय राजधानी से

इस नाव में उनके परिवार के 11 लोग शामिल थे, जिनमें से केवल 1 सदस्य ही बच पाया था। भाग्य लक्ष्मी ने बताया कि उनकी दोनों बच्चियां पूरी तरह से स्वस्थ हैं और उनके लक्षण भी उनकी मृतक बहनों के समान है। 15 सितंबर के उस हादसे ने हमारे परिवार को हिला कर रख दिया था। उस नाव हादसे में परिवार के 10 रिश्तेदारों की मौत हुई थी।भाग्य लक्ष्मी का प्रसव कराने वाली डॉक्टर पी सुधा ने बताया कि दंपति ने उनसे लगभग 1 साल पहले संपर्क किया था। जब वे अपनी दो बच्चियों को खोने के बाद सदमे में थे। हालांकि महिला ट्यूबेक्टमी करवा चुकी थी। लेकिन मैंने दंपति को IVF प्रक्रिया के बारे में समझाया और इनका इलाज शुरू किया। महिला की डिलीवरी डेट 20 अक्टूबर की थी लेकिन प्रसव पीड़ा के चलते महिला ने 15 सितंबर को ही दो बच्चियों को जन्म दे दिया ।