भाकपा ने राहुल गांधी के फैसलों से विपक्ष में विभाजन को हार के लिये जिम्मेदार ठहराया

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 23 2019 7:11PM
भाकपा ने राहुल गांधी के फैसलों से विपक्ष में विभाजन को हार के लिये जिम्मेदार ठहराया
Image Source: Google

उन्होंने कहा, ‘‘जातीय और धार्मिक संकीर्णता की बुनियाद पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव का एजेंडा तय कियाlलेकिन उससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि विपक्ष की एकता को कांग्रेस ने धराशायी कर दिया l’’

नयी दिल्ली। भाकपा ने बृहस्पतिवार को लोकसभा चुनाव परिणाम के रुझानों में भाजपा नीत राजग की निर्णायक बढ़त और विपक्षी दलों की बदहाली के लिये कांग्रेस की लचर नीति को जिम्मेदार ठहराया है। भाकपा ने विपक्षी दलों में विभाजन को हार की मुख्य वजह बताते हुये कहा है कि राहुल गांधी के गलत फैसलों के कारण विपक्ष एकजुट नहीं हो पाया और यह चुनाव परिणाम समूचे विपक्ष को देखना पड़ा। भाकपा के राष्ट्रीय सचिव अतुल कुमार अंजान ने पीटीआई भाषा को बताया कि इस स्थिति की एकमात्र वजह विपक्ष का विभाजन है। उन्होंने कहा, ‘‘जातीय और धार्मिक संकीर्णता की बुनियाद पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव का एजेंडा तय कियाlलेकिन उससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि विपक्ष की एकता को कांग्रेस ने धराशायी कर दिया l’’ 


अंजान ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की रणनीतिक खामियों ने विपक्ष की एकता को कमजोर किया। उन्होंने कहा कि इन खामियों ने ही भाजपा और मोदी की जीत का रास्ता खोला l भाकपा सचिव और राज्य सभा सदस्य डी राजा ने विपक्ष की एकजुटता नहीं हो पाने को भाजपा की जीत का प्रमुख कारण बताया। राजा ने कहा कि हालांकि यह समय किसी पर हार का ठीकरा फोड़ने का नहीं है, ना ही किसी एक नेता को पार्टी की हार के लिये जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। उन्होंने कहा कि यह भी सही है कि जिस तरह से तमिलनाडु में विपक्ष एकजुट था वहां भाजपा की लहर काम नहीं कर पायी।
 
 
माकपा के महासचिव एस सुधाकर रेड्डी ने कहा कि उनकी समझ में भाजपा का राष्ट्रवाद का मुद्दा, कर्नाटक के अलावा उत्तर भारतीय राज्यों में काम कर गया जिसकी वजह से सत्तारूढ़ गठबंधन के पक्ष में परिणाम आए। 


 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video