Tripura में ‘लोकतंत्र बहाल’ करने के लिए कल रैली करेंगी माकपा, कांग्रेस

Tripura assembly elections
प्रतिरूप फोटो
ANI
माकपा के प्रदेश सचिव जितेंद्र चौधरी और कांग्रेस विधायक सुदीप रॉय बर्मन ने बृहस्पतिवार को एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि रैली में शामिल होने वाले लोग किसी राजनीतिक दल का झंडा लेकर नहीं चलेंगे।

अगरतला। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) और कांग्रेस आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर त्रिपुरा में ‘‘संविधान को बचाने’’ तथा ‘‘लोकतंत्र बहाल’’ करने की कवायद के तौर पर शनिवार को अगरतला में एक रैली करेंगी। माकपा के प्रदेश सचिव जितेंद्र चौधरी और कांग्रेस विधायक सुदीप रॉय बर्मन ने बृहस्पतिवार को एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि रैली में शामिल होने वाले लोग किसी राजनीतिक दल का झंडा लेकर नहीं चलेंगे। रॉय बर्मन ने कहा, ‘‘त्रिपुरा में संविधान बचाने और लोकतंत्र की रक्षा करने के इच्छुक लोग रबींद्र भवन के सामने इस विशाल रैली में हिस्सा लेंगे और किसी राजनीतिक दल का झंडा लेकर नहीं चलेंगे।

वे राष्ट्रीय ध्वज थामे नजर आएंगे।’’ वहीं, चौधरी ने राज्य में ‘‘बढ़ती’’ चुनाव पूर्व हिंसा पर चिंता जताई और दावा किया कि पूर्वोत्तर राज्य में 2018 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा)के सत्ता में आने के बाद लोग वोट नहीं दे पाए।’’ टिपरा मोथा के ‘‘लोकतांत्रिक और धर्मनिरपेक्ष ताकतों’’ के साथ हाथ मिलाने के बारे में पूछे जाने पर चौधरी ने कहा कि इस क्षेत्रीय दल के प्रमुख प्रद्योत किशोर माणिक्य देबबर्मा ने भाजपा को हराने के लिए ‘‘माकपा-कांग्रेस गठबंधन का समर्थन’’ किया है।

इस बीच, सूत्रों ने बताया कि माकपा और कांग्रेस नेताओं ने दोनों दलों के बीच सीटों के बंटवारे पर अपनी पहली बैठक की, लेकिन कोई ‘‘अंतिम फैसला नहीं लिया गया।’’ दोनों दलों ने विधानसभा चुनाव मिलकर लड़ने की घोषणा की थी। त्रिपुरा की 60 सदस्यीय विधानसभा के लिए मतदान 16 फरवरी को होगा, जबकि वोटों की गिनती दो मार्च को की जाएगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़