सीधी बस दुर्घटना के दोषियों को छोड़ा नहीं जाएगा: शिवराज सिंह चौहान

Shivraj Singh Chauhan
मालूम हो कि मध्यप्रदेश में सीधी जिला मुख्यालय से करीब 80 किलोमीटर दूर पटना गांव के पास मंगलवार सुबह को हुए इस बस हादसे में 51 लोगों की मौत हो गई थी।
भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरूवार को कहा कि प्रदेश के सीधी में मंगलवार को हुए बस हादसे के दोषियों को छोड़ा नहीं जाएगा। इस बस हादसे में 51 लोगों की मौत हो गई थी। सीधी बस दुर्घटना के संबंध में यहां अपने निवास पर उच्च-स्तरीय बैठक में चौहान ने वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिए, ‘‘दोषियों को किसी भी स्थिति में छोड़ा नहीं जाए। जो गलती करेगा वह दंड पाएगा।’’ उन्होंने कहा कि जिस मार्ग की खराब स्थिति एवं ट्रैफिक जाम के कारण इस हादसे वाली बस को सीधी से सतना जाने के लिए अपना मार्ग बदलना पड़ा, उस सड़क की मरम्मत तथा वहां क्रेन की व्यवस्था तत्काल प्रभाव से की जाए, ताकि किसी भी वाहन के खराब होने पर उसे सड़क से तुरंत हटाया जा सके और इस तरह के ट्रैफिक जाम से बचा जा सके। चौहान ने कहा कि इसके अलावा, वहां पर वैकल्पिक मार्ग विकसित करने के लिए जल्द से जल्द कार्य योजना बनाकर क्रियान्वयन आरंभ किया जाए। उन्होंने कहा कि संपूर्ण प्रदेश में बसों की फिटनेस और ओवरलोडिंग के संबंध में अभियान आरंभ हो। 

इसे भी पढ़ें: सीधी बस हादसा : जान बचाने वाले तीन लोगों को पांच-पांच लाख का पुरस्कार देने की घोषणा

चौहान ने निर्देश दिये कि पूरे प्रदेश में घाटों, दुर्गम मार्गों, खराब सड़कों का सर्वे कर आवश्यक कार्रवाई की जाए और दुर्घटना संभावित क्षेत्रों में आवश्यक उपाय किये जायें। इस बैठक में प्रदेश के मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव जल संसाधन तथा परिवहन एस.एन. मिश्रा एवं प्रमुख सचिव लोक निर्माण नीरज मंडलोई उपस्थित थे। मालूम हो कि मध्यप्रदेश में सीधी जिला मुख्यालय से करीब 80 किलोमीटर दूर पटना गांव के पास मंगलवार सुबह को हुए इस बस हादसे में 51 लोगों की मौत हो गई थी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़