रसोई गैस सिलिंडर के दाम 50 रुपये बढ़े, कुछ शहरों में एक हजार के पार पहुंची कीमत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 8, 2022   10:49
रसोई गैस सिलिंडर के दाम 50 रुपये बढ़े, कुछ शहरों में एक हजार के पार पहुंची कीमत
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons.

सार्वजनिक क्षेत्र की ईंधन वितरक कंपनियों ने बिना सब्सिडी वाले एलपीजी सिलिंडर के दाम में बढ़ोतरी की अधिसूचना जारी की। एलपीजी सिलिंडर के दाम में यह वृद्धि रूस-यूक्रेन युद्ध की वजह से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ईंधन की कीमतों में जारी तेजी के बीच की गई है।

नयी दिल्ली| घरों में खाना पकाने के लिए इस्तेमाल होने वाले एलपीजी गैस सिलिंडर के दाम में शनिवार को 50 रुपये की बढ़ोतरी कर दी गई। इसके साथ ही रसोई गैस सिलिंडर के दाम रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गए हैं।

सार्वजनिक क्षेत्र की ईंधन वितरक कंपनियों ने बिना सब्सिडी वाले एलपीजी सिलिंडर के दाम में बढ़ोतरी की अधिसूचना जारी की। एलपीजी सिलिंडर के दाम में यह वृद्धि रूस-यूक्रेन युद्ध की वजह से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ईंधन की कीमतों में जारी तेजी के बीच की गई है।

इस बढ़ोतरी के बाद दिल्ली और मुंबई में एलपीजी का 14.2 किलोग्राम वाला सिलिंडर 999.50 रुपये का हो गया है। वहीं चेन्नई में इसकी कीमत 1,015.50 रुपये और कोलकाता में 1,026 रुपये प्रति सिलिंडर हो गई है। यह रसोई गैस सिलिंडर के दाम का रिकॉर्ड स्तर है। छह सप्ताह के भीतर एलपीजी सिलिंडर के दाम में की गई यह दूसरी वृद्धि है।

इसके पहले 22 मार्च को भी ईंधन कंपनियों ने गैस सिलिंडर के दाम में 50 रुपये की वृद्धि की थी। अप्रैल, 2021 से अब तक रसोई गैस सिलिंडर के दाम 190 रुपये तक बढ़ चुके हैं।

ईंधन कंपनियों ने आधिकारिक तौर पर यह वृद्धि बिना सब्सिडी वाले गैस सिलिंडर के लिए ही की है। लेकिन देश के अधिकांश शहरों में अब सरकार की तरफ से गैस सिलिंडर पर सब्सिडी नहीं दी जा रही है लिहाजा खरीदारों को बिना सब्सिडी वाले सिलिंडर ही खरीदने पड़ रहे हैं। एक साल में एक परिवार को 12 गैस सिलिंडर सब्सिडी पर देने का प्रावधान है। मई की शुरुआत में सरकार ने होटल एवं रेस्टोरेंट में इस्तेमाल वाले वाणिज्यिक गैस सिलिंडर के दाम में भी 102.50 रुपये की बढ़ोतरी की थी।

इस बढ़ोतरी के बाद दिल्ली में 19 किलोग्राम वाले वाणिज्यिक गैस सिलिंडर की कीमत 2355.50 रुपये हो चुकी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।