UP के विभिन्न जनपदों में मंडरा रहा टिड्डी दलों का खतरा, निरंतर निगरानी रख रही हैं कृषि विभाग की टीमें

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 27, 2020   20:19
UP के विभिन्न जनपदों में मंडरा रहा टिड्डी दलों का खतरा, निरंतर निगरानी रख रही हैं कृषि विभाग की टीमें

कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने शनिवार को बताया कि देवरिया में टिड्डियों का एक झुंड आया था, लेकिन वह केवल बैसिला मैनुद्दीन गांव पहुंचा था। वहां के स्थानीय लोगों ने शोर मचाकर वहां से उन्हें भगा दिया।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले सहित विभिन्न जिलों में टिड्डी दलों का खतरा मंडरा रहा है। देवरिया के जिलाधिकारी अमित कुमार ने शनिवार को बताया कि जिले में टिड्डियों का एक झुंड देखा गया और अब वह कुशीनगर की तरफ चला गया है। कृषि विभाग द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, 26 जून को सूचना मिली कि झांसी, चित्रकूट, प्रयागराज, प्रतापगढ़, भदोही, आजमगढ़ और अंबेडकरनगर जिलों के विभिन्न विकास खंडों में टिड्डियों का झुंड उड़ रहा है। इन जिलों की कृषि विभाग की टीमें टिड्डी दलों पर निरंतर निगरानी रख रही हैं। टिड्डियों के विश्राम लेते ही उनके नियंत्रण की कार्रवाई शुरू कर दी जायेगी। इन जिलों के अलावा इनसे सटे हुए जिलों हमीरपुर, बांदा, फतेहपुर, कौशांबी, मिर्जापुर, सुल्तानपुर, मऊ और बलिया जपनदों के अधिकारियों को अलर्ट रहने के निर्देश दिये गये हैं। 

इसे भी पढ़ें: टिड्डी दल ने फसलों को किया नष्ट, राज्यों और किसानों की मदद करे केंद्र सरकार: राहुल 

कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने शनिवार को बताया कि देवरिया में टिड्डियों का एक झुंड आया था, लेकिन वह केवल बैसिला मैनुद्दीन गांव पहुंचा था। वहां के स्थानीय लोगों ने शोर मचाकर वहां से उन्हें भगा दिया। झुंड देवरिया से चला गया, टिड्डियों का दल जिन- जिन जनपदों में जा रहा है वहां रसायनों का छिड़काव कर उनका खात्मा किया जा रहा है। आसपास के गांवों को सावधान कर दिया गया है। रसायनों का छिड़काव अग्निशमन गाड़ियों की मदद से किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि लोगों से कहा गया है कि टिड्डी दल को भगाने के लिये थाली बजायें, पुलिस सायरन बजायें और धुएं का इस्तेमाल करें। 

इसे भी पढ़ें: टिड्डी दल हमला: दिल्ली के पर्यावरण मंत्री ने दक्षिण, पश्चिम जिला प्रशासन से सतर्क रहने को कहा 

शाही ने बताया कि प्रदेश के विभिन्न जनपदों में टिड्डी दल के हमले के मद्देनजर उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रत्येक जनपद में मुख्य विकास अधिकारी की अध्यक्षता में एक निगरानी समिति का गठन किया गया है, साथ ही प्रदेश के सीमावर्ती जिलों में पांच- पांच लाख रूपये रसायनों के छिडकाव के लिये उपलब्ध करा दिये गये हैं। बयान में कहा गया कि 25 जून की शाम को जौनपुर जिले के शाहगंज विकास खंड के गांवों में पेड़ों पर टिड्डी दल ने आश्रय लिया, जिसमें लगभग आधे टिड्डियों को जनपद के कृषि विभाग की टीम ने मार गिराया। इसी तरह प्रयागराज के शंकरगढ़ विकास खंड में भी कृषि विभाग द्वारा रात में चलाये गये अभियान में 60 से 70 प्रतिशत टिड्डियों को मार गिराया गया। बयान में कहा गया कि चित्रकूट में 25 जून को तीन अलग- अलग जगहों पर टिड्डी दलों को देखा गया और और कृषि विभाग तथा अग्निशमन विभाग के संयुक्त अभियान में कृषि रक्षा रसायनों के छिड़काव से उन्हें मार गिराया गया।

इसे भी देखें: Pakistani टिड्डियों ने भारत के कई राज्यों में मचाया आतंक  





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।