दसॉल्ट पर ऑफसेट पार्टनर का ब्योरा साझा करने के लिए दबाव नहीं डाल सकते: रक्षा मंत्री

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 18, 2018   10:27
दसॉल्ट पर ऑफसेट पार्टनर का ब्योरा साझा करने के लिए दबाव नहीं डाल सकते: रक्षा मंत्री

उन्होंने कहा दसॉल्ट, भारत के साथ समझौते के तहत ऑफसेट पार्टनर का ब्यौरा साझा करने के लिए बाध्य है लेकिन ऐसा करने के लिए एक साल का समय है। दसॉल्ट, राफेल लड़ाकू विमान सौदे में मूल उपकरण निर्माता (ओईएम) है।

मुंबई। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को कहा कि भारत फ्रांस की विमान निर्माता कंपनी दसॉल्ट एविएशन पर राफेल सौदे से जुड़े ऑफसेट साझेदार का ब्योरा साझा करने के लिए सिर्फ इसलिए दबाव नहीं डाल सकती है क्योंकि विपक्ष इसके बारे में जानना चाहता है। 

उन्होंने कहा दसॉल्ट, भारत के साथ समझौते के तहत ऑफसेट पार्टनर का ब्यौरा साझा करने के लिए बाध्य है लेकिन ऐसा करने के लिए एक साल का समय है। दसॉल्ट, राफेल लड़ाकू विमान सौदे में मूल उपकरण निर्माता (ओईएम) है। 

मंत्री ने वार्षिक ईटी अवार्ड में यहां कहा, ‘‘केवल इसलिए कि कल मेरे विपक्षी इसके (ऑफसेट पार्टनर का ब्यौरा) बारे में जानना चाहते थे, मैं ओईएम पर यह कहकर दबाव नहीं डाल सकती कि विपक्ष यह चाहता है, मुझे अभी बताइये।’’ उन्होंने कहा, ‘‘नियम के मुताबिक, वे मुझे अगले साल भी बता सकते हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं इसके लिए इंतजार करूंगी। एक बार जान लूं, मैं आपको बता दूंगी। इससे पहले, खबरों के आधार पर मैं अटकलें क्यों लगाऊं?’’ 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।