फरीदाबाद में कोरोना पीड़ित की मौत, हरियाणा में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 339 हुए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2020   21:54
फरीदाबाद में कोरोना पीड़ित की मौत, हरियाणा में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 339 हुए

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में आने के बावजूद कोरोना वायरस से काफी समय तक मुक्त रहे झज्जर में कोविड-19 का पहला मामला सोमवार को सामने आया था।

चंडीगढ़। हरियाणा के फरीदाबाद जिले में बृहस्पतिवार को कोविड-19 के 68 वर्षीय एक मरीज की मौत हो गई, वहीं राज्य में एक दिन में 28 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या बढ़कर 339 तक पहुंच गई है। राज्य में कोविड-19 की वजह से अब तक चार लोगों की जान जा चुकी है। एक अधिकारी ने कहा, “बुजुर्ग व्यक्ति को पहले से भी कुछ बीमारियां थीं और वह कोरोना वायरस संक्रमित पाया गया था।” उन्होंने बताया कि फरीदाबाद में सात नए मामले सामने आए हैं। गुरुग्राम से भी संक्रमण के तीन नए मामले सामने आए हैं।

प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी दैनिक बुलेटिन में कहा गया कि झज्जर में 18 नए मामले सामने आए हैं जिन्हें मिलाकर जिले में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 24 हो गई है। अधिकारियों ने कहा कि झज्जर में ये मामले तीन दिन में सामने आए हैं, जो चिंता का विषय है। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में आने के बावजूद कोरोना वायरस से काफी समय तक मुक्त रहे झज्जर में कोविड-19 का पहला मामला सोमवार को सामने आया था। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर सील होने से फंसे हजारों कर्मचारी, अस्थायी निवास की होगी व्यवस्था !

हरियाणा सरकार ने कहा कि एनसीआर में पड़ने वाले उसके कई जिलों में कोरोना वायरस के मामले राष्ट्रीय राजधानी से आए और अधिकारियों ने संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिये दिल्ली से लगने वाली सीमाओं को सील करने के आदेश दिये हैं। राज्य में मामलों के लिहाज से कोरोना वायरस संक्रमण से सबसे बुरी तरह प्रभावित जिले नूंह (58), गुरुग्राम (54), फरीदाबाद (53), पलवल (34), सोनीपत (25), झज्जर (24) और पंचकूला (18) हैं। बुलेटिन के मुताबिक राज्य में कोविड-19 के 100 मरीजों का फिलहाल इलाज चल रहा है जबकि 235 को इलाज के बाद स्वस्थ होने पर छुट्टी दे दी गई है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।