वन मंत्री की टिप्पणी स्व.सांसद रामस्वरूप के परिवार का अपमान,दीपक शर्मा बोले- टिप्पणी असंयमित,शर्मनाक और पद की गरिमा के खिलाफ

Deepak sharma
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ प्रवक्ता दीपक शर्मा ने मंत्री के इस ब्यान पर तीखी प्रतिक्रिया करते हुए कड़ा विरोध दर्ज किया है।उन्होंने कहा कि मंत्री महोदय की टिप्पणी स्व.सांसद रामस्वरूप के परिवार का अपमान है। मंत्री को इस बारे शीघ्र माफी मांगनी चाहिए।

मंडी ।  हिमाचल सरकार के वनमंत्री राकेश पठानिया द्वारा मंडी के पूर्व सांसद रामस्वरूप शर्मा को लेकर की गई टिप्पणी को कांग्रेस पार्टी ने घटिया मानसिकता का परिचायक बताते हुए इसे असंयमित और शर्मनाक करार दिया है।

 

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ प्रवक्ता दीपक शर्मा ने  मंत्री के इस ब्यान पर तीखी प्रतिक्रिया करते हुए कड़ा विरोध दर्ज किया है।उन्होंने कहा कि मंत्री महोदय की टिप्पणी स्व.सांसद रामस्वरूप के परिवार का अपमान है। मंत्री को इस बारे शीघ्र माफी मांगनी चाहिए।

 

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि भाजपा सरकार के बयानवीर मंत्री बेलगाम हो कर असंयमित भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं।सरकार शिष्टाचार भूल चुकी है।उन्होंने कहा कि स्व.सांसद के परिवार वाले संदिग्ध हालात में हुई रामस्वरूप जी की मृत्यु पर जांच की मांग कर रहे हैं।जिस व्यक्ति ने पूरा जीवन भाजपा के लिए समर्पित कर दिया हो उसकी मृत्यु के बाद भाजपा का उस दिवंगत आत्मा के प्रति इस तरह का घटिया व्यवहार यह दर्शाता है कि भाजपा मात्र सत्ता के लिए नेताओं का इस्तेमाल करती है।आज दिवंगत आत्मा भी भाजपाइयों के इस बर्ताव से निसंदेह दुखी होगी।

 

दीपक शर्मा ने कहा कि स्व.सांसद की संदिग्ध हालात में हुई मृत्यु बारे उनके परिबार द्वारा बार बार सरकार से निष्पक्ष जांच की मांग की जा रही है लेकिन सरकार जांच नहीं करवाना चाहती।आखिर इसके पीछे क्या वजह से सरकार को स्पष्ट करना चाहिए।

 

दीपक शर्मा ने कहा कि विवादित बयानबाज़ी करके महत्वपूर्ण मुद्दों से जनता का ध्यान बांटने में भाजपाई माहिर हैं।वनमंत्री का व्यान भी इसी कड़ी में दिया गया प्रतीत होता है।कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस पार्टी मंत्री के इस घटिया ब्यान की कड़ी आलोचना करती है और मंत्री से सार्वजनिक तौर पर स्व.सांसद के परिवार से मुआफी मांगने की मांग करती है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़