बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के पास बनेगा रक्षा निर्माण कोरिडोर: योगी आदित्यनाथ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 27, 2019   17:03
बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के पास बनेगा रक्षा निर्माण कोरिडोर: योगी आदित्यनाथ

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने भ्रष्टाचार और अपराध को कतई बर्दाश्त नहीं करने की नीति अपनाई है। उन्होंने कहा, ‘‘हमने निवेशक हितैषी नीतियां अपनाई हैं। उत्तरप्रदेश 2017 से पहले चुनौतीपूर्ण था।

मुम्बई। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कहा कि उनकी सरकार ने प्रस्तावित बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे से लगते क्षेत्र में रक्षा निर्माण कोरिडोर बनाने की योजना बनाई है जिससे रक्षा उत्पादन में ‘‘भारत आत्मनिर्भर बनेगा।’’ वह यहां वर्ल्ड हिंदू इकोनॉमिक फोरम में बोल रहे थे। आदित्यनाथ ने कहा, ‘‘फरवरी 2020 में रक्षा प्रदर्शनी का आयोजन किया जाएगा जिसमें सौ से अधिक कंपनियों ने भागीदारी की पुष्टि की है। उत्तरप्रदेश रक्षा उत्पादन में भारत को आत्मनिर्भर बनाने में योगदान करेगा।’’ उन्होंने कहा कि प्रयागराज कुंभ और दीपोत्सव तथा वाराणसी में प्रवासी भारतीय दिवस जैसे अद्भुत कार्यक्रम आयोजित करने के अलावा उनकी सरकार ने भ्रष्टाचार मुक्त प्रशासन देने और अच्छी कानून-व्यवस्था मुहैया कराने पर ध्यान केंद्रित किया है। 

उन्होंने कहा कि मेरठ- प्रयागराज एक्सप्रेस वे का निर्माण अगले वर्ष शुरू होगा। राज्य के सभी 75 जिलों में चार लेन का मार्ग होगा। इसके अलावा बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे की भी योजना बनाई गई है। उन्होंने कहा, ‘‘2017 से पहले उत्तरप्रदेश में केवल दो शहरों के बीच हवाई संपर्क था और अब यह संख्या छह हो गई है। 11 नये हवाई अड्डे और दो अंतरराष्ट्रीय ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे की योजना बनाई गई है। तीन शहरों में मेट्रो है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘उत्तरप्रदेश में अपार संभावनाएं हैं।’’ उन्होंने कहा कि उत्तरप्रदेश में पिछले दो वर्षों में पांच लाख करोड़ के निवेश प्रस्ताव मिले हैं जिनमें से दो लाख करोड़ रुपये लागू हो चुके हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने अयोध्या और नोएडा से जुड़ी मनहूसी वाली मान्यता को तोड़ा है। उन्होंने कहा, ‘‘ किसी भी मुख्यमंत्री (उत्तरप्रदेश के) ने धर्मनिरपेक्ष विश्वसनीयता खोने के डर से अयोध्या का दौरा नहीं किया और कुर्सी जाने के भय से नोएडा नहीं गया। 2017 के बाद मैंने दोनों शहरों का अक्सर दौरा किया।’’ 

इसे भी पढ़ें: भाजपा छात्रसंघ छीनने जीतने को क्यों है इतनी आतुर: प्रियंका

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने भ्रष्टाचार और अपराध को कतई बर्दाश्त नहीं करने की नीति अपनाई है। उन्होंने कहा, ‘‘हमने निवेशक हितैषी नीतियां अपनाई हैं। उत्तरप्रदेश 2017 से पहले चुनौतीपूर्ण था। राज्य की पहचान अराजकता और माफिया राज के तौर पर थी। राज्य के युवक राज्य से बाहर अपनी पहचान छिपाते थे।’’ इस वर्ष 15 जनवरी से चार मार्च तक चले प्रयागराज कुंभ का जिक्र करते हुए आदित्यनाथ ने कहा कि पवित्र स्नान के लिए 24 करोड़ से अधिक लोगों ने वहां का दौरा किया। मुख्यमंत्री ने अयोध्या में दीपोत्सव और वाराणसी में प्रवासी भारतीय दिवस की उपलब्धियों का भी जिक्र किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।