भारतीय सेना की ताकत बढ़ाने पर जोर, 13500 करोड़ की रक्षा खरीद को मंजूरी

भारतीय सेना की ताकत बढ़ाने पर जोर, 13500 करोड़ की रक्षा खरीद को मंजूरी

सेना के लिए 820 बख्तरबंद गाड़ियां भी ली जाएंगी। रक्षा क्षेत्र में इसे बड़ा कदम माना जा रहा है। 8379 करोड़ रूपये 118 अर्जुन मार्क-1 ए टैंक के लिए मंजूर किए गए जबकि 820 बख्तरबंद गाड़ियों के लिए 5300 करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं।

देश के रक्षा क्षेत्र को मजबूती देने के लिए सरकार का बड़ा और अहम फैसला लिया गया। भारतीय सेना की ताकत बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। 13 हजार 500 करोड़ के रक्षा खरीद को मंजूरी दी गई है। रक्षा मंत्रालय ने खरीद को मंजूरी दी। 118 अर्जुन मार्क-1 ए टैंक के लिए ये मंजूरी दी गई है। सेना के लिए 820 बख्तरबंद गाड़ियां भी ली जाएंगी। रक्षा क्षेत्र में इसे बड़ा कदम माना जा रहा है। 8379 करोड़ रूपये 118 अर्जुन मार्क-1 ए टैंक के लिए मंजूर किए गए जबकि 820 बख्तरबंद गाड़ियों के लिए 5300 करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं। ऐसे में जबकि लगातार केंद्र सरकार की ओर से ये दावा किया जाता रहा है कि सुरक्षा को लेकर आत्मनिर्भर बनना हमारा पहला लक्ष्य है। इसे उसी दिशा में एक अहम कदम माना जा रहा है। 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में बढ़ रहे महिला अपराधों पर आया सीएम योगी का बयान, जानें क्या कहा!

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 फरवरी को स्वदेश निर्मित अर्जुन मुख्य युद्धक टैंक (एमके-1ए) को यहां सेना को सौंपा। मोदी ने इसे भारत की एकजुट भावना का एक उदाहरण बताया क्योंकि दक्षिण में निर्मित बख्तरबंद वाहन देश की उत्तरी सीमाओं की रक्षा करेंगे। मोदी ने यहां आयोजित एक समारोह में इस अत्याधुनिक टैंक की सलामी भी ली। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के यहां स्थित युद्धक वाहन अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान द्वारा निर्मित इस अत्याधुनिक टैंक को देश में डिजाइन, विकसित और निर्मित किया गया है। मोदी ने बाद में टैंक की एक प्रतिकृति सेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे को सौंपा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...