कश्मीरी पंडित उद्यमियों के प्रतिनिधिमंडल ने फारूक अब्दुल्ला से की मुलाकात, गुपकार घोषणापत्र को जताया समर्थन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 27, 2020   17:08
कश्मीरी पंडित उद्यमियों के प्रतिनिधिमंडल ने फारूक अब्दुल्ला से की मुलाकात, गुपकार घोषणापत्र को जताया समर्थन

लोकसभा सदस्य अब्दुल्ला ने कश्मीरी पंडित समुदाय को अपनी पार्टी की ओर से पूरा समर्थन जताया। एनसी प्रवक्ता के अनुसार, कश्मीरी पंडित उद्यमियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने अब्दुल्ला से उनके आवास पर मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल ने गुपकार घोषणापत्र को अपना समर्थन जताया।

श्रीनगर। कश्मीरी पंडित उद्यमियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने बृहस्पतिवार को नेशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला से यहां मुलाकात की और गुपकार घोषणापत्र को अपना समर्थन जताया। पार्टी के एक प्रवक्ता ने यह जानकारी दी। लोकसभा सदस्य अब्दुल्ला ने कश्मीरी पंडित समुदाय को अपनी पार्टी की ओर से पूरा समर्थन जताया। एनसी प्रवक्ता के अनुसार, कश्मीरी पंडित उद्यमियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने अब्दुल्ला से उनके आवास पर मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल ने गुपकार घोषणापत्र को अपना समर्थन जताया। गुपकार घोषणापत्र चार अगस्त, 2019 को नेशनल कॉन्र्फेंस अध्यक्ष के गुपकार स्थित आवास पर हुई सर्वदलीय बैठक के बाद जारी किया गया प्रस्ताव है। 

इसे भी पढ़ें: J&K में कोरोना के 700 से अधिक मामले सामने आए, 19 और मरीजों की मौत

इसके एक दिन बाद ही केंद्र सरकार ने जम्मू कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा समाप्त करने और उसे दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने की घोषणा की थी। गुपकार घोषणापत्र में लिखा है, ‘‘अनुच्छेद 35ए और 370 में बदलाव, उन्हें समाप्त करना, राज्य का असंवैधानिक परिसीमन या इसे तीन हिस्सों में बांटना जम्मू, कश्मीर और लद्दाख की जनता के खिलाफ गुस्सा निकालना होगा।’’ कश्मीर के राजनीतिक दलों ने पिछले सप्ताह एक संयुक्त बयान जारी कर कहा था कि वे पिछले साल के घोषणापत्र का समर्थन करते हैं और सभी हमलों के खिलाफ जम्मू कश्मीर की पहचान, स्वायत्तता और विशेष दर्जे को बचाने के अपने संकल्प में एकजुट रहेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।