जब भाजपा नेता ने पार्टी मुख्यालय में ही पत्नी पर किया हमला

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 20, 2019   09:33
जब भाजपा नेता ने पार्टी मुख्यालय में ही पत्नी पर किया हमला

पार्टी नेताओं ने बताया कि दोनों के वैवाहिक जीवन में कलह चल रहा है और सिंह ने पत्नी सरिता चौधरी से तलाक के लिए मामला दायर किया हुआ है।

नयी दिल्ली। दिल्ली में भाजपा की महरौली जिला इकाई के प्रमुख आजाद सिंह ने अपनी पत्नी और दक्षिण दिल्ली की पूर्व मेयर पर प्रदेश कार्यालय में कथित रूप से हमला कर दिया। सिंह ने प्रकाश जावड़ेकर द्वारा बुलाई गई एक बैठक के फौरन बाद उन पर हमला किया। सूत्रों ने यह जानकारी दी। पार्टी नेताओं ने बताया कि दोनों के वैवाहिक जीवन में कलह चल रहा है और सिंह ने पत्नी सरिता चौधरी से तलाक के लिए मामला दायर किया हुआ है। एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि जावड़ेकर ने पंत मार्ग स्थित पार्टी कार्यालय में विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर बैठक बुलाई थी। इस बैठक से बाहर आते ही दोनों में झगड़ा शुरू हो गया।

इसे भी पढ़ें: मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों से लोगों का भरोसा उठा: प्रियंका

जावड़ेकर विधानसभा चुनाव के लिए दिल्ली प्रभारी हैं। उन्होंने बताया कि दोनों के वैवाहिक जीवन में कई साल से कलह चल रही है। लेकिन यह उम्मीद नहीं थी कि वे इस तरह लड़ेंगे। पार्टी महासचिव राजेश भाटिया ने बताया कि प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी के निर्देश पर सिंह को महरौली जिला अध्यक्ष के पद से हटा दिया गया है और घटना की जांच के लिए समिति गठित की गई है। घटना के गवाह एक नेता ने बताया कि जब यह झगड़ा हुआ तब जावड़ेकर पार्टी में दफ्तर में ही मौजूद थे। बहरहाल, चौधरी की प्रतिक्रिया तुरंत नहीं मिल सकी लेकिन सिंह ने कहा कि उन्होंने अपनी पत्नी से तलाक के लिए मामला दायर किया हुआ है। 

इसे भी पढ़ें: नरेन्द्र मोदी ने शरद पवार के बयान को तोड़ मरोड़कर पेश किया: राकांपा

उन्होंने बताया कि उन्होंने (चौधरी ने) पहले मुझे अपशब्द कहे और मुझपर हमला किया। मैंने आत्मरक्षा में उन्हें पीछे धक्का मारा। दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि हमें किसी से भी कोई शिकायत नहीं मिली है। शिकायत मिलने पर उचित कार्रवाई की जाएगी। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।