दिल्ली के किसान ने श्रमिकों को विमान से भेजा पटना, श्रमिकों ने कहा: हमेशा याद रहेगी पहली उड़ान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 28, 2020   15:47
दिल्ली के किसान ने श्रमिकों को विमान से भेजा पटना, श्रमिकों ने कहा: हमेशा याद रहेगी पहली उड़ान

पप्पन ने श्रमिकों के लिए 68,000 रुपये के टिकट बुक कराए और उन्हें तीन-तीन हजार रुपए दिए ताकि उन्हें घर पहुंचने में कोई दिक्कत नहीं हो। पप्पन ने बताया कि उसने श्रमिकों को श्रमिक विशेष ट्रेन से भी घर भेजने की कोशिश की थी, लेकिन ऐसा संभव नहीं हो पाया।

नयी दिल्ली। क्या हमें चप्पलें पहने विमान में बैठने दिया जाएगा? जब विमान उड़ान भरेगा, तो कैसा लगेगा? क्या हम सुरक्षित होंगे?... इसी तरह के तमाम प्रश्न उन 10 प्रवासी श्रमिकों के दिमाग में घूम रहे थे, जिन्हें उनके नियोक्ता एवं दिल्ली के एक किसान ने उनके गृह राज्य बिहार विमान से भेजने की व्यवस्था की और वे पहली बार विमान में सवार हुए। पहली बार विमान में बैठने वाले इन श्रमिकों में शामिल नवीन राम ने पटना पहुंचने के बाद कहा कि हवाईअड्डे की औपचारिकताओं को देखकर डर लग रहा था, लेकिन उन्होंने एक अधिकारी की मदद मांगी, जिसने उन्हें विमान तक पहुंचाया। नवीन ने कहा कि उत्साहित और डरे हुए प्रवासी श्रमिक जब सीटों पर बैठे और विमान ने उड़ान भरी तो कुछ ने तो डर के कारण अपनी आंखें बंद कर लीं। बिहार के समस्तीपुर के रहने वाले ये श्रमिक कोरोना वायरस को काबू करने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के कारण दिल्ली में फंस गए थे। उन्होंने कभी सपने में नहीं सोचा था कि उन्हें विमान में बैठने का मौका मिलेगा, लेकिन दिल्ली में मशरूम की खेती करने वाले उनके नियोक्ता पप्पन सिंह ने इन श्रमिकों के लिए टिकटों का प्रबंध किया।

नवीन ने कहा कि उन्हें यह अनुभव हमेशा याद रहेगा। उसने कहा कि जब हम जूट के थैले लिए और चप्पल पहने हवाईअड्डे पर पहुंचे तो लोग हमें घूर रहे थे। 27 वर्षीय नवीन ने फोन पर कहा, ‘‘हमने उनकी तरह अच्छे कपड़े नहीं पहने थे। हमें नहीं पता था कि हमें हवाईअड्डा पहुंचने के बाद क्या करना है क्योंकि हम पहले कभी विमान में नहीं बैठे। हमने वहां एक अधिकारी की मदद ली।’’ जब देश में प्रवासी मजदूरों के भूख-प्यास से लड़ते हुए तमाम मुश्किलों के बाद पैदल, साइकिलों, बसों और ट्रेनों से अपने गृह राज्यों की ओर जाने की कहानियां सामने आ रही हैं, तब ऐसे में प्रवासी मजदूरों के इस समूह की रोमांचक यात्रा विमान के पटना उतरने पर समाप्त नहीं हुई। इस समूह में शामिल एक अन्य प्रवासी श्रमिक जितेंद्र राम ने बताया कि जब वे दिल्ली से सुबह छह बजे की उड़ान से पटना हवाईअड्डा पहुंचे तो कई मीडियाकर्मी उनसे बात करने के लिए इंतजार कर रहे थे। जितेंद्र ने कहा, ‘‘हमने कभी नहीं सोचा था कि हम खबरों में आएंगे। मेरे दोस्त ने मुझे फोन किया और बताया कि वह मुझे समाचार चैनल पर देख रहा है। हम इस शानदार अनुभव को हमेशा याद रखेंगे।’’ यह पूछे जाने पर कि क्या वे लॉकडाउन समाप्त होने के बाद दिल्ली आएंगे, नवीन ने कहा, ‘‘निश्चित ही जब हमारे मालिक (नियोक्ता) हमें बुलाएंगे, हम दिल्ली आएंगे।’’ पप्पन सिंह ने ‘पीटीआई भाषा’ से कहा, ‘‘मैं बहुत खुश हूं कि वे अंतत: अपने गृहराज्य पहुंच गए।’’ 

इसे भी पढ़ें: सरकार को गरीबों के दर्द का अहसास नहीं, जरूरतमंदों और MSME की तत्काल की जाए मदद: सोनिया गांधी

पप्पन ने श्रमिकों के लिए 68,000 रुपये के टिकट बुक कराए और उन्हें तीन-तीन हजार रुपए दिए ताकि उन्हें घर पहुंचने में कोई दिक्कत नहीं हो। पप्पन ने बताया कि उसने श्रमिकों को श्रमिक विशेष ट्रेन से भी घर भेजने की कोशिश की थी, लेकिन ऐसा संभव नहीं हो पाया। उसने कहा, ‘‘मैं अपने कर्मियों को हजारों मील पैदल जाने की अनुमति देने का खतरा नहीं उठा सकता था। इससे उनके जीवन को खतरा होता। हमने कई खबरें सुनी हैं कि घर लौट रहे कई प्रवासी श्रमिक इन दिनों सड़क हादसों का शिकार हो रहे हैं।’’ पप्पन सिंह ने बताया कि हवाईअड्डा पहुंचाने से लेकर हवाई जहाज में सवार होने तक हर कदम पर वह लगातार फोन के जरिए उनके संपर्क में रहे और सब पूछते रहे जैसे -सब कुछ ठीक ठाक है, बोर्डिंग पास हैं? सामान सब ध्यान से रख लिया ना। ये सभी पटना हवाई अड्डे से समस्तीपुर के लिए रवाना हो गए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।