ऑक्सीजन संकट: मनीष सिसोदिया ने केंद्र से दिल्ली के लिए ऑक्सीजन का आवंटन बढ़ाने का आग्रह किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 29, 2021   19:54
ऑक्सीजन संकट: मनीष सिसोदिया ने केंद्र से दिल्ली के लिए ऑक्सीजन का आवंटन बढ़ाने का आग्रह किया

दिल्ली सरकार ने बृहस्पतिवार को कहा कि केंद्र को राजधानी के लिए ऑक्सीजन का आवंटन रोजाना 490 मीट्रिक टन से बढ़ाकर 976 मीट्रिक टन कर देना चाहिए क्योंकि अगले 10 दिनों में कोविड मरीजों के लिए हजारों अतिरिक्त बेड तैयार हो जाएंगे।

नयी दिल्ली। दिल्ली सरकार ने बृहस्पतिवार को कहा कि केंद्र को राजधानी के लिए ऑक्सीजन का आवंटन रोजाना 490 मीट्रिक टन से बढ़ाकर 976 मीट्रिक टन कर देना चाहिए क्योंकि अगले 10 दिनों में कोविड मरीजों के लिए हजारों अतिरिक्त बेड तैयार हो जाएंगे। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल को लिखे एक पत्र में यह भी आग्रह किया कि केंद्र अन्य राज्यों की उत्पादन इकाइयों से ऑक्सीजन के परिवहन के लिए भी सुविधाएं प्रदान करे। उन्होंने कहा कि अतिरिक्त बेड की व्यवस्था हो जाने से दिल्ली में प्रति दिन चिकित्सीय ऑक्सीजन की अनुमानित आवश्यकता 976 मीट्रिक टन हो जाएगी।

इसे भी पढ़ें: बंगाल में खिलेगा कमल या खेला होबे! एग्जिट पोल में TMC और BJP के बीच कांटे की टक्कर

सिसोदिया ने गोयल से कहा, ‘‘ दिल्ली सरकार और यहां के लोग भारत सरकार के आभारी होंगे, अगर वह मौजूदा आवंटन 490 मीट्रिक टन रोजाना को बढ़ाकर 976 मीट्रिक टन कर दे...।’’ सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली में प्रतिदिन कोरोना वायरस से संक्रमण के करीब 25,000 नए ​​मामले आ रहे हैं और करीब 10 प्रतिशत रोगियों को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है।

इसे भी पढ़ें: अरविंद केजरीवाल का टीकाकरण प्लान, कहा- तीन महीनें में सभी वयस्कों को लगायी जाएगी वैक्सीन

उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी सरकार एक सप्ताह से 10 दिनों के अंदर 15,000 गैर-आईसीयू बेड और 1,200 आईसीयू बेड तैयार करने की दिशा में काम कर रही है। सिसोदिया ने कहा कि इसके अलावा, छतरपुर के राधा स्वामी सत्संग ब्यास परिसर में 5,000 बेड तैयार हैं, लेकिन केवल 300 बेड ही चालू हैं। वहीं संत निरंकारी मिशन में 1,000 बेड और सावन कृपाल रूहानी मिशन में 1,500 बेड तैयार हैं, लेकिन ऑक्सीजन की कमी के कारण वे चालू नहीं हो सके हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।