तीन साल में तैयार हो जाएगा दिल्ली-मुंबई राजमार्ग, 280 किमी कम हो जाएगी दूरी: गडकरी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 30, 2020   19:26
तीन साल में तैयार हो जाएगा दिल्ली-मुंबई राजमार्ग, 280 किमी कम हो जाएगी दूरी: गडकरी

केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि दिल्ली और मुंबई के बीच एक नये राजमार्ग का निर्माण किया जा रहा है, जो तीन साल में तैयार हो जाएगा। उन्होंने कहा कि कहा कि हम दिल्ली से मुंबई के बीच 1,03,000 करोड़ रुपये की लागत से एक नया राजमार्ग बना रहे हैं।

नयी दिल्ली। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बृहस्पतिवार को कहा कि दिल्ली और मुंबई के बीच एक नये राजमार्ग का निर्माण किया जा रहा है, जो तीन साल में तैयार हो जाएगा। इससे दोनों शहरों के बीच की दूरी 280 किलोमीटर कम हो जाएगी तथा यात्रा का समय 12 घंटे कम हो जाएगा। उन्होंने एसोचैम के एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘हम दिल्ली से मुंबई के बीच 1,03,000 करोड़ रुपये की लागत से एक नया राजमार्ग बना रहे हैं। मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि तीन साल में आप अपनी कार से दिल्ली से मुंबई जा सकेंगे और आपको अभी की तुलना में 12 घंटे कम समय लगेगा।’’

इसे भी पढ़ें: जिन राज्यों में भाजपा मजबूत नहीं, वहां कमल खिलाएंगे: जेपी नड्डा

गडकरी ने कहा कि इस राजमार्ग के निर्माण के लिये जमीन का अधिग्रहण किया जा चुका है तथा 60 में से 32 ठेके भी दिये जा चुके हैं। उन्होंने कहा, ‘‘यह राजमार्ग गुरुग्राम के पास सोहना से शुरू होगा तथा दिल्ली और मुंबई के बीच की दूरी को 280 किलोमीटर कम कर देगा।’’ उन्होंने कहा कि यह राजमार्ग राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र और हरियाणा के उन इलाकों से होकर गुजर रहा है जो आर्थिक व सामाजिक तौर पर पिछड़े हैं। इस परियोजना के लिये जमीन अधिग्रहण में 16 हजार करोड़ रुपये की बचत होगी।

इसे भी पढ़ें: गडकरी की चेतावनी, कहा- फाइलें दबा कर बैठने वाले अधिकारियों को बाहर का दरवाजा दिखाएंगे

उन्होंने कहा, ‘‘यदि हमने इसे दिल्ली-अहमदाबाद-सूरत-वडोदरा-मुंबई के रास्ते बनाया होता तो भूमि अधिग्रहण की औसत लागत छह करोड़ रुपये प्रति एकड़ होती, लेकिन अभी यह लागत 80 लाख रुपये प्रति एकड़ है।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।