दिल्ली में बढ़ने लगा कोरोना, 24 घंटे में 1,313 मामले दर्ज, मेट्रो के एक कोच में 25 यात्री ही कर सकेंगे सफर

दिल्ली में बढ़ने लगा कोरोना, 24 घंटे में 1,313 मामले दर्ज, मेट्रो के एक कोच में 25 यात्री ही कर सकेंगे सफर
प्रतिरूप फोटो

स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन मुताबिक दिल्ली में 1,313 कोरोना के मामले दर्ज होने के बाद सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 3,081 हो गई है। जबकि पिछले 24 घंटे में 423 मरीजों ने कोरोना को हराया भी है। जिसके बाद ठीक होने वालों की संख्या बढ़कर 14,18,227 हुई। वहीं, बुधवार को कोरोना के 923 मामले सामने आए थे।

नयी दिल्ली। दिल्ली में एक बार फिर से कोरोना वायरस अपने पैर पसारने लगा है। पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 1,313 नए मामले दर्ज किए गए हैं। आपको बता दें कि दिल्ली में 26 मई के बाद गुरुवार को सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। इसके अलावा संक्रमण दर बढ़कर 1.73 प्रतिशत हो गई है। 

इसे भी पढ़ें: Delhi Metro: येलो लाइन पर ग्रीन पार्क-कुतुब मीनार के बीच गुरुवार को कोई सेवा नहीं होगी 

स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन मुताबिक दिल्ली में 1,313 कोरोना के मामले दर्ज होने के बाद सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 3,081 हो गई है। जबकि पिछले 24 घंटे में 423 मरीजों ने कोरोना को हराया भी है। जिसके बाद ठीक होने वालों की संख्या बढ़कर 14,18,227 हुई। वहीं, बुधवार को कोरोना के 923 मामले सामने आए थे। जिसकी तुलना में गुरुवार को 42 फीसदी ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं।

200 से ज्यादा यात्री नहीं करेंगे सफर !

कोरोना के मामले बढ़ने के चलते दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने दिल्ली मेट्रो की 50 फीसदी सीट पर ही यात्रियों को बैठने की अनुमति दी। इसके अलावा 8 कोच वाली मेट्रो में अब सिर्फ 200 यात्री ही सफर कर सकेंगे। ऐसे में एक कोच में 25 से ज्यादा यात्रियों के सफर की इजाजत नहीं है। सामान्य हालातों में एक मेट्रो में तकरीबन 2400 के आस-पास यात्री सफर करते हैं लेकिन कोरोना पाबंदियों के चलते अब महज 200 यात्री ही सफर कर सकेंगे। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में येलो अलर्ट के बाद, मेट्रो में सफर के नियमो में भी हुआ बदलाव, यहां देखें डीएमआरसी की नई गाइडलाइन 

इसके अलावा मेट्रो में खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति नहीं है। ऐसे में शारीरिक दूरी जैसे नियमों का पालन हो सकेगा क्योंकि भीड़भाड़ कम होगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।