दिल्ली की वायु गुणवत्ता बेहद खराब, सप्ताहांत पर होगी बदतर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 30, 2018   14:48
दिल्ली की वायु गुणवत्ता बेहद खराब, सप्ताहांत पर होगी बदतर

दिल्ली की वायु गुणवत्ता शुक्रवार को ‘बहुत खराब’ श्रेणी में रही। इसकी वजह मौसम के विपरित हालात रहे जिनकी वजह से प्रदूषक तत्व तितर-बितर नहीं हो सके।

नयी दिल्ली। दिल्ली की वायु गुणवत्ता शुक्रवार को ‘बहुत खराब’ श्रेणी में रही। इसकी वजह मौसम के विपरित हालात रहे जिनकी वजह से प्रदूषक तत्व तितर-बितर नहीं हो सके। सप्ताहांत पर प्रदूषण का स्तर और भी बदतर होने की आशंका है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली का समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 358 रहा। 301 से 400 के बीच एक्यूआई को बहुत खराब और 401 से 500 के बीच एक्यूआई को बेहद गंभीर माना जाता है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में प्रदूषण के कारण कुछ और हैं पर दोष हरियाणा, पंजाब के मत्थे लगता है

सीपीसीबी ने कहा कि मुंडका, रोहिणी और वजीरपुर समेत दिल्ली के सात इलाकों में वायु गुणवत्ता बेहद गंभीर श्रेणी में रही जबकि अन्य 25 इलाकों में वायु प्रदूषण का स्तर बहुत खराब श्रेणी में रहा। एनसीआर में गाजियाबाद, फरीदाबाद और नोएडा में वायु गुणवत्ता बहुत खराब रही जबकि गुड़गांव में यह मध्यम स्तर की रही। भारतीय उष्णदेशीय मौसम विज्ञान संस्थान के मुताबिक हवा की गति और हवा का संचार (वेंटिलेशन) सूचकांक अत्यधिक प्रतिकूल रहा। हवा का संचार सूचकांक का मतलब है कि प्रदूषक तत्व कितनी तेजी से छितरते हैं।

इसे भी पढ़ें: वायु गुणवत्ता और खराब हुई तो दिल्ली में सिर्फ CNG वाहन ही चल पाएंगे

केंद्र संचालित वायु गुणवत्ता एवं मौसम पूर्वानुमान प्रणाली (सफर) के मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता बहुत खराब है और अगले दो दिन तक ऐसे ही हालात बने रहने की आशंका है, खासकर रविवार को तापमान में गिरावट के साथ हवा की गुणवत्ता और खराब हो सकती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।