दिल्ली हिंसा: तीन व्यक्तियों को कोर्ट ने दी जमानत, कहा- फोन में डाउनलोड करेंगे आरोग्य सेतु ऐप

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 24, 2020   23:09
दिल्ली हिंसा: तीन व्यक्तियों को कोर्ट ने दी जमानत, कहा- फोन में डाउनलोड करेंगे आरोग्य सेतु ऐप

अदालत ने अपने आदेश में कहा, “ पूरी रिपोर्ट में जांच अधिकारी ने कहीं भी उल्लेख नहीं किया है कि उन्होंने मामले में कैसे आवेदकों की पहचान की। रिपोर्ट में आवेदकों के खिलाफ तथ्यों की कमी है।“

नयी दिल्ली। दिल्ली की एक अदालत ने उत्तर पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा के दौरान स्थानीय नागरिक की हत्या के आरोप में गिरफ्तार तीन व्यक्तियों को बुधवार को जमानत दे दी। अदालत ने कहा कि पुलिस यह बताने में नाकाम रही है कि उसने उनकी पहचान कैसे की। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश विनोद यादव ने इसरार अहमद, मोहम्मद तैय्यब और मोहम्मद रिजवान को 20-20 हजार रुपये के जमानती मुचलके और इतनी ही राशि की जमानत पर राहत दी। अदालत ने अपने आदेश में कहा, “ पूरी रिपोर्ट में जांच अधिकारी ने कहीं भी उल्लेख नहीं किया है कि उन्होंने मामले में कैसे आवेदकों (अहमद, तैय्यब और रिजवान) की पहचान की। रिपोर्ट में आवेदकों के खिलाफ तथ्यों की कमी है।“ 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली हिंसा मामले में HC ने पुलिस की याचिका पर स्कूल मालिक से मांगा जवाब 

अदालत ने तीनों आरोपियों को निर्देश दिया कि वे अपने फोन चालू रखेंगे और उसमें आरोग्य सेतु एप्प डाउनलोड करेंगे। अदालत ने उनसे जांच में शामिल होने और सुबूतों के साथ छेड़छाड़ नहीं करने को भी कहा। आरोपियों की ओर से पेश हुए वकील एमएम हाशमी ने अदालत से कहा कि आरोपियों को मामले में फंसाया गया है। उन्होंने कहा कि मामले की जांच पूरी हो गई है और उनको हिरासत में लेकर पूछताछ की और जरूरत नहीं है। वकील ने यह भी कहा कि दंगों में तीन व्यक्तियों की संलिप्तता दिखाने के लिए कोई वीडियो या इलेक्ट्रॉनिक सुबूत नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: UAPA मामले में जांच के लिए अदालत ने पुलिस को 60 और दिनों की मोहलत दी

राज्य की ओर से पेश हुए अतिरिक्त लोक अभियोजक तौफीक अहमद ने जमानत का विरोध करते हुए कहा कि वे संगीन मामले में संलिप्तत पाए गए हैं और उनके खिलाफ गंभीर आरोप हैं। तीनों को 24 फरवरी को खजूरी खास इलाके में संशोधित नागरिकता कानून को लेकर भड़के दंगों के दौरान एक स्थानीय नागरिक की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।