प्रधानमंत्री से पशु वध पाबंदी से मेघालय को छूट देने की मांग

कांग्रेस सांसद विंसेट एच पाला ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया है कि पशु बाजारों में काटने के लिए पशुओं की बिक्री पर रोक से आदिवासी और बीफ का सेवन करने वाले मेघालय जैसे राज्यों को छूट दी जाए।

शिलांग। पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं कांग्रेस सांसद विंसेट एच पाला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया है कि पशु बाजारों में काटने के लिए पशुओं की बिक्री पर रोक से आदिवासी और बीफ का सेवन करने वाले मेघालय जैसे राज्यों को छूट दी जाए। पाला ने आज कहा कि प्रधानमंत्री को प्रधानमंत्री को आदिवासी और बीफ का सेवन करने वाले मेघालय जैसे राज्यों को छूट देनी चाहिए। प्रधानमंत्री के समक्ष दिए औपचारिक आवेदन में पाला ने आग्रह किया कि नियमों की समीक्षा करते समय सभी राज्य सरकारों की औपचारिक राय ली जानी चाहिए और राज्यवार जरूरी अधिसूचना के साथ नियमों को लागू करने की अनुमति प्रदान की जानी चाहिए।

राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय (एनएसएसओ) के अनुसार मेघालय देश में सबसे अधिक बीफ का सेवन करने वाला राज्य है। मेघालय की 80.74 फीसदी आबादी बीफ खाती है और यह आंकड़ा लक्षद्वीप और नगालैंड से अधिक है। शिलांग के सांसद पाला ने कहा, ‘‘मेघालय जैसे आदिवासी राज्यों को इन नियमों के क्रियान्वयन से छूट मिलनी चाहिए।’’ उन्होंने कहा कि नए नियमों को वापस लिया जाना चाहिए क्योंकि संसद संबंधित अधिनियम में संशोधन कर सकती है और राज्यों को प्रभावित करने वाले किसी फैसले के बारे में राज्यों से विचार-विमर्श करना चाहिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़