हिंदू संगठन की अवैध लाउडस्पीकर हटाने के अदालत के आदेश का पालन न करने के खिलाफ कार्रवाई की मांग

Loudspeakers
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons.
एक विज्ञप्ति में नवी मुंबई के याचिकाकर्ता संतोष पचालग के हवाले से कहा गया है, ‘‘महाराष्ट्र सरकार ने हमारे द्वारा दायर जनहित याचिका पर राज्य में सभी धार्मिक स्थानों से अवैध लाउडस्पीकर हटाने के 2016 में दिए उच्च न्यायालय के आदेश का पालन नहीं किया।

ठाणे (महाराष्ट्र)| दक्षिणपंथी संगठन हिंदू जनजागृति समिति (एचजेएस) ने 2016 में दिए गए बंबई उच्च न्यायालय के उस आदेश का पालन करने की मांग की है, जिसमें उसने महाराष्ट्र में मस्जिदों समेत धार्मिक स्थानों पर लगाए गए अवैध लाउडस्पीकर को हटाने का निर्देश दिया था।

उसने इस संबंध में उच्च न्यायालय के आदेश पर कार्रवाई करने में नाकाम रही पुलिस के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की भी मांग की है।

एक विज्ञप्ति में नवी मुंबई के याचिकाकर्ता संतोष पचालग के हवाले से कहा गया है, ‘‘महाराष्ट्र सरकार ने हमारे द्वारा दायर जनहित याचिका पर राज्य में सभी धार्मिक स्थानों से अवैध लाउडस्पीकर हटाने के 2016 में दिए उच्च न्यायालय के आदेश का पालन नहीं किया।

अत: 2018 में हमने उसके खिलाफ उच्च न्यायालय में अवमानना याचिका दायर की। कोरोना वायरस महामारी के कारण याचिका पर सुनवाई नहीं हो सकी है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़