3 दिवसीय भारत दौरे पर आईं डेनमार्क PM फ्रेडरिक्सन का हुआ जोरदार स्वागत, राजघाट पहुंचकर महात्मा गांधी को दी श्रद्धांजलि

3 दिवसीय भारत दौरे पर आईं डेनमार्क PM फ्रेडरिक्सन का हुआ जोरदार स्वागत, राजघाट पहुंचकर महात्मा गांधी को दी श्रद्धांजलि

डेनमार्क की प्रधानमंत्री 11 अक्टूबर तक भारत की यात्रा पर रहेंगी। इस दौरान वह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ द्विपक्षीय संबंधों पर वार्ता होगी।

नयी दिल्ली। डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सन तीन दिवसीय भारत दौरे पर हैं। इस दौरान राष्ट्रपति भवन में उनका जोरदार स्वागत हुआ। जिसके बाद उन्होंने एक बयान जारी किया। उन्होंने कहा कि हम भारत को एक बहुत करीबी पार्टनर मानते हैं। मैं इस यात्रा को डेनमार्क-भारत द्विपक्षीय संबंधों के लिए एक मील के पत्थर के रूप में देखती हूं। 

इसे भी पढ़ें: पीएम मोदी को मिले गिफ्ट्स की हुई नीलामी, नीरज चोपड़ा का भाला डेढ़ करोड़ में बिका 

आपको बता दें कि डेनमार्क की प्रधानमंत्री 11 अक्टूबर तक भारत की यात्रा पर रहेंगी। इस दौरान वह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ द्विपक्षीय संबंधों पर वार्ता होगी।

डेनमार्क की प्रधानमंत्री औपचारिक स्वागत के बाद राजघाट पहुंचीं। जहां पर उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद उन्होंने आईटीसी मौर्या होटल में विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद सुबह 11.30 बजे हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलेंगी।

इसे भी पढ़ें: लखीमपुर खीरी हिंसा पर प्रधानमंत्री मोदी की ‘चुप्पी’ पर कपिल सिब्बल ने उठाया सवाल 

द्विपक्षीय संबंधों पर होगी चर्चा

प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सन की भारत यात्रा से डेनमार्क और भारत के संबंध मजबूत होने की उम्मीद है। आपको बता दें कि इस दौरान दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच में हरित सामरिक गठजोड़ के क्षेत्र में प्रगति की समीक्षा करने के साथ द्विपक्षीय संबंधों के विविध आयामों पर चर्चा होगी। इसके अलावा भारत किम डेवी के प्रत्यर्पण से जुड़े मुद्दे पर भी बातचीत करने वाला है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।