लोकसभा चुनाव में में मिली हार के बाद देवगौड़ा ने तोड़ी चुप्पी

devgowda-smiled-after-losing-in-lok-sabha-elections
यहां पत्रकारों से देवगौड़ा ने कहा कि मई 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में त्रिशंकु नतीजे आने के बाद कांग्रेस नेता ही इस इच्छा के साथ उनके पास आए थे कि एचडी कुमारस्वामी गठबंधन सरकार की अगुवाई करें।

बेंगलुरु। पूर्व प्रधानमंत्री और जद (एस) प्रमुख एचडी देवगौड़ा ने शुक्रवार को कहा कि लोकसभा चुनाव में हार के लिए उनकी पार्टी के साथ गठबंधन को जिम्मेदार ठहराने की कांग्रेस नेताओं की टिप्पणी से उन्हें ‘दुख’ पहुंचा है। देवगौड़ा ने कहा, ‘‘मुझे दुख हुआ जब एक बैठक में उनके (कांग्रेस के) राष्ट्रीय महासचिव की मौजूदगी में किसी ने(कांग्रस नेता ने) कहा कि पार्टी जद (एस) के साथ गठजोड़ की वजह से मुश्किल में थी।’’

यहां पत्रकारों से देवगौड़ा ने कहा कि मई 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में त्रिशंकु नतीजे आने के बाद कांग्रेस नेता ही इस इच्छा के साथ उनके पास आए थे कि एचडी कुमारस्वामी गठबंधन सरकार की अगुवाई करें। उन्होंने कहा, ‘‘हमने कभी नहीं कहा कि कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री बनना चाहिए।’’

इसे भी पढ़ें: ओसाका में बोले PM मोदी, आतंकवाद मानवता के लिए है सबसे बड़ा खतरा

देवगौड़ा ने कहा, ‘‘ईमानदारी से कहूं तो क्या 37 सीटों के आधार पर (मुख्यमंत्री पद) के लिए कहना धर्म है? वे (कांग्रेस नेता) दिल्ली के आला कमान के आदेश पर आए थे और कहा था कि कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री बनना चाहिए।’’ पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री पद के लिए मलिक्कार्जुन खड़गे, मौजूदा उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर या वरिष्ठ कांग्रेस नेता के एच मुनियप्पा का नाम सुझाया था।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़