दिव्यांग बच्चे को फ्लाइट में नहीं बिठाने का मामला, DGCA ने जांच में पाया दोषी, इंडिगो का व्यवहार ठीक नहीं

DGCA
Creative Common
अभिनय आकाश । May 16, 2022 7:40PM
भारत के विमानन नियामक डीजीसीए ने आज कहा कि इंडिगो के कर्मचारियों ने रांची हवाई अड्डे पर एक दिव्यांग किशोर को अनुचित तरीके से हैंडल किया।

रांची एयरपोर्टी की एक घटना आपको याद होगी। जहां एक स्पेशल चाइल्ड को हवाई जहाज में न बिठाने के मामले ने तूल पकड़ा था। इससे जुड़ा एक वीडियो भी वायरल हुआ था। ये खबरें लगातार लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी थी। जिसके बाद इस पूरे मामले में जांच बिठाई गई। इस पूरे मामले में एविएशन रेगुलेटर डीजीसीए ने इंडिगो एयरलाइंस को कारण बताओं नोटिस जारी किया है। मामले में इंडिगो का जो रवैया था। उसके स्टाफ का जो रवैया था। वो व्यवहार गलत था। डीजीसीए की फैक्ट फाइनडिंग कमेटी ने इस घटना की जांच के बाद रिपोर्ट में कहा है कि इंडिगो ने यात्रियों को अनउपयुक्त तरीके से हैंडल किया है। 

इसे भी पढ़ें: इंडिगो ने दिव्यांग बच्चे को यात्रा करने से रोका, सिंधिया खुद कर रहे हैं घटना की जांच

भारत के विमानन नियामक डीजीसीए ने आज कहा कि इंडिगो के कर्मचारियों ने रांची हवाई अड्डे पर एक दिव्यांग किशोर को अनुचित तरीके से हैंडल किया। एयरलाइन को एक कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए पूछा गया कि गैर-अनुपालन के लिए उनके खिलाफ उपयुक्त प्रवर्तन कार्रवाई क्यों नहीं की जानी चाहिए। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ने स्पेशल चाइल्ड को अपने परिवार के साथ यात्रा करने को लेकर 7 मई को एयरलाइन कर्मचारियों द्वारा एक उड़ान में सवार होने से रोकने के बाद जांच का आदेश दिया था।  

इसे भी पढ़ें: तीसरा बच्चा पैदा करने पर मिलेंगे 11 लाख रुपए और एक साल की छुट्टी, इस कंपनी ने कर्मचारियों को दिया अनोखा ऑफर

विमानन कंपनी ने नौ मई को कहा था कि बच्चे को इसलिए विमान में सवार नहीं होने दिया गया, क्योंकि वह ‘‘स्पष्ट रूप से घबराया हुआ’’ था। बच्चे को रांची से हैदराबाद जा रहे विमान में सवार होने की अनुमति नहीं दिए जाने के बाद उसके माता-पिता ने भी विमान में नहीं बैठने का फैसला किया था। डीजीसीए ने इस मामले की जांच करने के लिए एक तथ्यान्वेषी समिति का गठन किया था। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़