यहां किसी को घेरने नहीं आए, कुर्सी हमारा लक्ष्य नहीं: जयपुर में गरजे जेपी नड्डा

JP Nadda Jaipur
प्रतिरूप फोटो
Twitter Image
अनुराग गुप्ता । May 20, 2022 10:07PM
भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शुक्रवार को जयपुर में स्व. सुंदर सिंह भंडारी जी की जन्म शताब्दी पर स्मारिका का विमोचन किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि लक्ष्य के प्रति समर्पित, आदर्श जीवन और कुशल संगठक के रूप में मैंने उन्हें देखा है। संगठन को गढ़ना, हर बारीकी को समझना और अपनी बात को स्पष्टता से रखना उनकी विशेषता थी।

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शुक्रवार को जयपुर में स्व. सुंदर सिंह भंडारी जी की जन्म शताब्दी पर स्मारिका का विमोचन किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि सुंदर सिंह भंडारी जी भारतीय जनसंघ की नींव रखने वाले प्रथम पंक्ति के और प्रथम पीढ़ी के नेता थे। उन्होंने भारतीय जनसंघ को और भाजपा को अपना जीवन देकर पार्टी को वर्तमान स्थिति में लाने में बहुत बड़ा योगदान दिया। उन्होंने कहा कि लक्ष्य के प्रति समर्पित, आदर्श जीवन और कुशल संगठक के रूप में मैंने उन्हें देखा है। संगठन को गढ़ना, हर बारीकी को समझना और अपनी बात को स्पष्टता से रखना उनकी विशेषता थी। 

इसे भी पढ़ें: सुनील जाखड़ की चुगलखोरों वाली टिप्पणी पर बरसे दिग्विजय सिंह, RSS पर भी साधा निशाना 

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने एक बैठक में कहा था कि कोई भी ये न समझे कि कोई भी सांसद और विधायक पर्मानेंट है। यह संगठन का निर्णय है। सीटिंग एंड गेटिंग प्रिंसिपल नहीं है। ये वाक्य अभी भी मेरे कान में गूंजते हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा का आज का ये उत्कर्ष ऐसे ही नहीं आया है। चार-चार पीढ़ियों ने खुद को खपा दिया, उसके माध्यम से आज हम यहां खड़े हैं। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि आप भाजपा के पहले के बूथ स्तर तक के कार्यकर्ताओं का इतिहास खंगालिए, ये सब लोग वो थे, जिनके पास पाने को कुछ नहीं था और खोने के लिए सब कुछ था। तब उन्होंने विचार को आगे बढ़ाया।

उन्होंने कहा कि नमो ऐप पर कमल पुष्प में सारे देश के कार्यकर्ताओं का मोदी जी ने संग्रह किया है, उनके इतिहास के विषय में लिखा है कि किस तरह उन्होंने पार्टी को खड़ा किया। ये सब लोग वो थे जिनको पाने के लिए कुछ नहीं था और खोने के लिए सबकुछ था, तब उन्होंने विचारधारा को आगे बढ़ाया।

उन्होंने कहा कि 80 का दशक हमारे लिए ऐसा था, जब हम लोग मन में सोचते थे कि क्या हम सफल होंगे या नहीं। 90 का दशक ऐसा था कि हां, हम सफल हो सकते हैं। 90 के दशक के अंत में हमने कहा कि हम सफल हो गए हैं। हम यहां किसी कुर्सी को घेरने नहीं आये हैं। कुर्सी हमारा लक्ष्य नहीं बल्कि माध्यम है। देश को आगे ले जाने के लिए सत्ता हमारा माध्यम है। हमारे जेहन में एक बात रहनी चाहिए कि हम परिवर्तन के उपकरण हैं। ये जोश और जज्बा एवं ताकत जीवन के अंतिम सांस तक रहेगी, इस प्रण के साथ हमें काम में जुटना है। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस के चिंतन शिविर के बाद जयपुर में भाजपा का मंथन, जेपी नड्डा बोले- कारगर रही बैठक, आगामी योजनाएं बनाई गईं 

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि हम सब सुंदर सिंह भंडारी जी से प्रेरणा लेकर अगर अपना जीवन लगा दें, तो शायद हम ये मान लेंगे कि हमारी जीवन सार्थक है। मैं युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं से आग्रह करूंगा कि सुंदर सिंह भंडारी जी की जीवनी को गहराई से जानना, समझना आपका उद्देश्य होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम आए हैं एकात्मवाद की तृष्णा को संतृप्त करने के लिए। हम आए हैं अंत्योदय के लिए। हम आए हैं सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास, सबका प्रयास के लिए। यही है एकात्म मानववाद और अंत्योदय, यही है हमारा उद्देश्य।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़