नहीं मिली इटली जाने की इजाजत! ममता ने साधा केंद्र पर निशाना, कहा- मुझे हमेशा के लिए नहीं रोक सकते

नहीं मिली इटली जाने की इजाजत! ममता ने साधा केंद्र पर निशाना, कहा- मुझे हमेशा के लिए नहीं रोक सकते

कहा जा रहा है कि इस साल अगस्त में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को विश्व शांति सम्मेलन में भाग लेने के लिए रोम आमंत्रित किया गया था। लेकिन विदेश मंत्रालय ने उसे इस आधार पर बैठक में शामिल होने की अनुमति देने से इंकार कर दिया कि यह आयोजन किसी राज्य के मुख्यमंत्री की भागीदारी के लिए स्थिति के अनुरूप नहीं है।

केंद्र की भाजपा सरकार और तृणमूल कांग्रेस के बीच एक बार फिर से तकरार बढ़ सकती है। दरअसल, तृणमूल कांग्रेस की ओर से दावा किया जा रहा है कि ममता बनर्जी को इटली में आयोजित होने वाले एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए विदेश मंत्रालय ने अनुमति नहीं दी। कहा जा रहा है कि इस साल अगस्त में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को विश्व शांति सम्मेलन में भाग लेने के लिए रोम आमंत्रित किया गया था। लेकिन विदेश मंत्रालय ने उसे इस आधार पर बैठक में शामिल होने की अनुमति देने से इंकार कर दिया कि यह आयोजन किसी राज्य के मुख्यमंत्री की भागीदारी के लिए स्थिति के अनुरूप नहीं है। आपको बता दें कि रोम में स्थित एक कैथोलिक संघ, संत'एगिडियो समुदाय के अध्यक्ष मैक्रो इम्पाग्लियाज़ो द्वारा निमंत्रण दिया गया था।

आमंत्रित लोगों में जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल भी शामिल हैं। इस कार्यक्रम के लिए आमंत्रित एकमात्र भारतीय ममता बनर्जी को केंद्र सरकार द्वारा अनुमति नहीं दी गई। इसको लेकर तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता देवांग्शु भट्टाचार्य ने बनर्जी की विदेश यात्राओं में कथित हस्तक्षेप पर आपत्ति जताने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया। भट्टाचार्य ने लिखा कि केंद्र सरकार ने दीदी की रोम यात्रा की अनुमति नहीं दी! पहले वे चीन यात्रा की अनुमति भी रद्द कर चुके हैं। हमने अंतरराष्ट्रीय संबंधों और भारत के हितों को ध्यान में रखते हुए उस फैसले को स्वीकार किया। अब, क्यों इटली मोदी जी? बंगाल से आपको क्या दिक्कत है? छी!" 

इसे भी पढ़ें: भवानीपुर में चुनाव प्रचार के दौरान दिलीप घोष पर हुआ हमला, भाजपा ने TMC पर लगाया आरोप

इसी को लेकर 30 सितंबर को होने वाले भवानीपुर विधानसभा उपचुनाव के लिए प्रचार कर रही बनर्जी ने पूछा, "आप (केंद्र सरकार) मुझे कितनी जगहों पर नहीं जाने देंगे?" उन्होंने आगे कहा कि आप मुझे हमेशा के लिए नहीं रोक सकते। आपको बता दें कि इस साल की शुरुआत में 292 में से 213 सीटें जीतकर टीएमसी लगातार तीसरी बार विधानसभा चुनाव में सत्ता में लौटी। 200 से ज्यादा सीटें जीतने का लक्ष्य रखने वाली बीजेपी सिर्फ 77 सीटें ही जीत पाई थी। हालांकि ममता नंदीग्राम से चुनाव हार गईं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।