दिग्विजय सिंह की निर्वाचन आयोग से मांग, MP में डाक मतपत्रों से अब तक डाले गए मत किए जाएं रद्द

Digvijay Singh
कांग्रेस नेता ने कहा कि अधिकारियों ने बताया है कि निर्वाचन आयोग मंगलवार को इस मुद्दे पर एक बैठक करने जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि उपचुनाव वाले जिलों में सरकारी अधिकारियों के तबादलों को रोका जाना चाहिए और जिन अधिकारियों के खिलाफ शिकायत दर्ज, और सत्यापित की गई है, केवल उन अधिकारियों को हटाया जाना चाहिए।

भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को निर्वाचन आयोग से मांग की कि मध्य प्रदेश में तीन नवंबर को होने वाले उपचुनाव के लिए डाक मतपत्रों से अब तक डाले गए मत रद्द किए जाएं क्योंकि आयोग द्वारा उम्मीदवारों को अभी तक ऐसे मतदाताओं की सूची नहीं दी गई है। इससे पहले यहां कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के बाहर धरना दिया। बाद में सिंह के नेतृत्व में तीन सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल आयोग के अधिकारियों से मिला। अधिकारियों से मुलाकात के बाद आयोग कार्यालय के बाहर पत्रकारों से सिंह ने कहा, ‘‘ हमारी मुख्य मांग है कि डाक मतपत्रों से अब तक डाले गए मत रद्द किए जाएं और ऐसे मतदाताओं की सूची सभी प्रत्याशियों को प्रदान की जाए।’’ कांग्रेस नेता ने कहा कि अधिकारियों ने बताया है कि निर्वाचन आयोग मंगलवार को इस मुद्दे पर एक बैठक करने जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि उपचुनाव वाले जिलों में सरकारी अधिकारियों के तबादलों को रोका जाना चाहिए और जिन अधिकारियों के खिलाफ शिकायत दर्ज, और सत्यापित की गई है, केवल उन अधिकारियों को हटाया जाना चाहिए। सिंह ने आरोप लगाया कि कुछ पुलिस अधिकारी सत्तारूढ भाजपा के पक्ष में मतदाताओं को प्रभावित कर रहे हैं। उन्होंने कुछ पुलिस अधिकारियों को हटाने पर आयोग का धन्यवाद व्यक्त किया। इन अधिकारियों के खिलाफ शिकायत की गई थी। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने हाथरस केस में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया स्वागत, कहा- इससे इंसाफ की उम्मीद को मिलेगी मजबूती

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘ हम उन पुलिस अधिकारियों पर नजर रख रहे हैं जिनकी शिकायतें हमारे पास पहुंच रही हैं। हम उन्हें चेतावनी देते हैं कि कांग्रेस नेता इस तरह के तत्वों से निपटना जानते हैं, चाहे सरकार में रहें या नहीं। हालांकि, हम सत्ता में वापस आ रहे हैं।’’ ग्वालियर-चंबल क्षेत्र के पुलिस अधिकारियों पर नेतागीरी करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस इसे गंभीरता से ले रही है। इस बीच, प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ और दिग्विजय सिंह पर सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों को धमकाने का आरोप लगाया। चौहान ने ट्वीट में कहा, ‘‘ अपनी संभावित पराजय से बौखलाकर कमलनाथ जी और दिग्विजय सिंह जी आजकल अधिकारियों और कर्मचारियों को धमका रहे हैं। देख लेंगे, निपट लेंगे, निपटा देंगे जैसे शब्दों का प्रयोग किया जा रहा है। माननीय चुनाव आयोग से अपील है कि वह स्वत: संज्ञान ले और धमकाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करे।’’ मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के तहत तीन नवंबर को मतदान होना है तथा मतों की गणना दस नवंबर को होगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़