पंजाब में सुलझा विवाद, मुख्य सचिव ने माफी मांगी, मंत्रियों ने इसे लोकतंत्र की जीत बताया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 28, 2020   11:06
पंजाब में सुलझा विवाद, मुख्य सचिव ने माफी मांगी, मंत्रियों ने इसे लोकतंत्र की जीत बताया

कैप्टन ने बादल एवं चन्नी को अपने फार्म हाउस पर लंच के लिये आमंत्रित किया था, जहां उसने यह पूछा गया था कि इस मामले को किस तरह सुलझाया जाये। इसके दो दिन बाद सिंह की यह माफी आयी है। वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने कहा कि अधिकारी ने अपने शारीरिक हाव-भाव एवं बातचीत के तौर-तरीके के लिये पूरे कैबिनेट के समक्ष माफी मांगी।

चंडीगढ़। पंजाब सरकार के मंत्रियों के साथ ‘आमना सामना’ होने के करीब दो हफ्ते बाद मुख्य सचिव करन अवतार सिंह अपने व्यवहार के लिये माफी मांगी, जिसे मंत्रियों ने लोकतंत्र की जीत बताया है। पंजाब सरकार के मंत्री मनप्रीत सिंह बादल एवं चरनजीत सिंह चन्नी ने शीर्ष नौकरशाह की ओर से कैबिनेट की बैठक के दौरान मांगी गयी माफी को लोकतंत्र की जीत बताया है। दोनों मंत्रियों ने इससे पहले यह घोषणा की थी कि वह ऐसी किसी भी बैठक में हिस्सा नहीं लेंगे जहां मुख्य सचिव मौजूद होंगे। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब में को​रोना वायरस संक्रमण के 33 नये मामले, कुल मरीज 2139 हुए

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बुधवार को हुयी इस बैठक में व्यक्तिगत रूप से हिस्सा लिया। कैप्टन ने बादल एवं चन्नी को अपने फार्म हाउस पर लंच के लिये आमंत्रित किया था, जहां उसने यह पूछा गया था कि इस मामले को किस तरह सुलझाया जाये। इसके दो दिन बाद सिंह की यह माफी आयी है। वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने कहा कि अधिकारी ने अपने शारीरिक हाव-भाव एवं बातचीत के तौर-तरीके के लिये पूरे कैबिनेट के समक्ष माफी मांगी। बादल ने संवाददाताओं को बताया कि मुख्य सचिव ने कहा कि वह भविष्य में किसी तरह की शिकायत का मौका नहीं देंगे। मंत्री ने कहा कि यह तीसरा मौका है जब अधिकारी ने उनसे माफी मांगी है। उन्होंने कहा कि अगर कोई व्यक्ति आपसे तीन बार माफी मांगता है और उसे माफ नहीं किया जाता है तो यह अहंकार का परिचायक होगा। मंत्री ने कहा कि यह लोकतंत्र की जीत है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...