भाजपा विधायक का वीडियो वायरल, मुस्लिम विक्रेताओं से सब्जी ना खरीदें लोग

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 28, 2020   14:05
भाजपा विधायक का वीडियो वायरल, मुस्लिम विक्रेताओं से सब्जी ना खरीदें लोग

भाजपा विधायक सुरेश तिवारी ने कहा कि मैंने लोगों से कहा कि उनसे (मुस्लिम सब्जी विक्रेताओं से) लड़ाई ना करें या कानून अपने हाथ में ना लें लेकिन उनसे खरीददारी बंद कर दें। मुझे बताइये कि मैंने क्या गलत कह दिया।

गोरखपुर। गोरखपुर के देवरिया जिले की बरहज सीट से भाजपा विधायक सुरेश तिवारी ने एक विवादास्पद बयान दिया है कि लोग मुस्लिम विक्रेताओं से सब्जी ना खरीदें। विधायक का एक वीडियो मंगलवार सुबह सोशल मीडिया पर वायरल हो गया जिसमें वह लोगों को सलाह दे रहे हैं कि वे मुस्लिम विक्रेताओं से सब्जी ना खरीदें। तिवारी वीडियो में कहते नजर आ रहे हैं, ‘‘एक चीज ध्यान में रखियेगा मैं बोल रहा हूं ओपेनली (खुले तौर पर) कोई भी मियां के हाथों सब्जी नहीं लेगा।’’ तिवारी ने इस संबंध में पूछे जाने पर फोन पर कहा कि 17 या 18 अप्रैल को मैं जनता में मास्क और सैनिटाइजर वितरित कर रहा था। जब मैं नगर पालिका की बाउंड्री के निकट पहुंचा तो करीब 17 से 18 लोग मेरे पास आये और शिकायत करने लगे कि तबलीगी जमात के लोगों ने अफरातफरी मचा दी है और कोरोना वायरस फैला रहे हैं और वे अपने थूक से सब्जियों को भी दूषित कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: भाजपा विधायक ने मेडिकल कालेज को बताया संक्रमण का हब तो छिड़ा विवाद 

तिवारी ने कहा कि मैंने लोगों से कहा कि उनसे (मुस्लिम सब्जी विक्रेताओं से) लड़ाई ना करें या कानून अपने हाथ में ना लें लेकिन उनसे खरीददारी बंद कर दें। मुझे बताइये कि मैंने क्या गलत कह दिया। उन्होंने कहा कि बरहज में कई मुस्लिम सब्जी विक्रेता हैं और मैंने जनता को केवल यही सलाह दी कि घातक वायरस से बचने के लिए उनसे सब्जी ना खरीदें। तिवारी के बयान पर प्रतिक्रिया पूछने पर लखनऊ में भाजपा प्रवक्ता चंद्रमोहन ने कहा कि पार्टी उन हालात को देखेगी, जिनके तहत विधायक ने इस तरह का बयान दिया है। उन्होंने कहा कि इस समय सबकी जिम्मेदारी है कि ऐसे कार्य करें जिससे एकजुटता को प्रोत्साहन मिलता हो।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।