क्या गुजरात जैसे दंगों के लिए महाराष्ट्र को प्रयोगशाला बनाना चाहती है बीजेपी: नाना पटोले

क्या गुजरात जैसे दंगों के लिए महाराष्ट्र को प्रयोगशाला बनाना चाहती है बीजेपी: नाना पटोले

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि राज्य में नांदेड़, मालेगांव और अमरावती में हुई घटनाएं चिंता का विषय हैं, लेकिन राज्य सरकार ने समय रहते स्थिति को नियंत्रण में कर लिया है। लेकिन बीजेपी स्थिति को शांत करने में सहयोग देने की जगह धार्मिक नफरत फैलाने की कोशिश की कर रही है।

मुंबई। अमरावती शहर में जहां स्थिति शांत हो गई है, वहीं बीजेपी जानबूझकर अब माहौल को भड़काने का काम कर रही है। क्या बीजेपी राजनीतिक लाभ के लिए दंगे भड़काकर अपना राजनीतिक रोटी सेंकने का काम कर रही है। बीजेपी पर यह जोरदार हमला प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने किया है। उन्होंने बेबाकी से पूछा है कि क्या बीजेपी, गुजरात की तरह महाराष्ट्र में भी दंगों के लिए प्रयोगशाला स्थापित करना चाहती है। पटोले ने कहा कि राज्य में नांदेड़, मालेगांव और अमरावती में हुई घटनाएं चिंता का विषय हैं, लेकिन राज्य सरकार ने समय रहते स्थिति को नियंत्रण में कर लिया है। लेकिन बीजेपी स्थिति को शांत करने में सहयोग देने की जगह धार्मिक नफरत फैलाने की कोशिश की कर रही है। 

इसे भी पढ़ें: देश में ही मौजूद हैं परमबीर सिंह, 48 घंटे के भीतर CBI के सामने होंगे पेश, सुप्रीम कोर्ट ने गिरफ्तारी से दी राहत 

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र को शांत रखने के लिए बीजेपी को एक जिम्मेदार विपक्षी दल की भूमिका निभानी चाहिए थी लेकिन बीजेपी नेता भड़काऊ बयान देकर आग में घी डालने का काम कर रहे हैं। भाजपा नेताओं के बयानों को देखकर ऐसा लगता है कि वे लोगों को दंगे के लिए उकसा रहे हैं। पटोले ने कहा कि इन बयानों से ऐसा लगता है कि बीजेपी नेता विपक्ष की नहीं बल्कि महाराष्ट्र विरोधी नेता की तरह बर्ताव कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि गुजरात में भाजपा ने गोधरा दंगों के साथ प्रयोग किया और इसे पूरे देश में फैलाया। अब वे महाराष्ट्र को दंगों की प्रयोगशाला बनाकर राजनीतिक लाभ हासिल करने की कोशिश कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश चुनाव का फायदा उठाने के लिए कुछ नेताओं ने महाराष्ट्र में आगजनी शुरू कर दी है। लेकिन महाराष्ट्र के बुद्धिमान और विवेकपूर्ण लोग उनकी साज़िशों के शिकार नहीं होंगे। पटोले ने यह भी कहा कि भाजपा नेताओं को इस तरह की फितरत छोड़ देनी चाहिए और महाराष्ट्र में शांति बहाल करने के लिए काम करना चाहिए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।