कोरोना संकट में पुलिस के साथी बने ड्रोन, निगरानी के साथ लोगों को चेताने में आ रहे है काम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 28, 2020   17:18
कोरोना संकट में पुलिस के साथी बने ड्रोन, निगरानी के साथ लोगों को चेताने में आ रहे है काम

राजस्थान के पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) मोहन लाल लाठर ने कहा कि भीड़भाड़ भरे इलाकों में लोगों की आवाजाही पर निगाह रखने में ड्रोन बहुत मददगार साबित हुए हैं।

जयपुर। कोरोना वायरस संक्रमण को काबू करने के लिए लागू लॉकडाउन (बंद) में ड्रोन ने पुलिस की खूब मदद की है। लोगों की आवाजाही पर निगरानी रखने के साथ साथ आम सूचनाएं प्रसारित करने में भी इनका इस्तेमाल हो रहा है। राजस्थान के पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) मोहन लाल लाठर ने कहा कि भीड़भाड़ भरे इलाकों में लोगों की आवाजाही पर निगाह रखने में ड्रोन बहुत मददगार साबित हुए हैं। पतली संकरियों गलियों में भी लोगों की आवाजाही पर ड्रोन की मदद से आसानी से निगाह रखी जा सकती है। यही नहीं अब तो ड्रोन सार्वजनिक सूचनाएं प्रसारित करने वाले स्पीकर के रूप में भी काम आ रहे हैं। लाठर ने कहा कि ड्रोन से पुलिस को विशेष रूप से कर्फ्यूग्रस्त व भीड़ भाड़ वाले इलाकों में अपना काम करने में काफी मदद मिली है। 

इसे भी पढ़ें: IIT सहित अन्य संस्थानों ने Innovation पर दिया पूरा जोर, विकसित की कई जांच तकनीक 

स्टार्टअप जीरो ग्रेविटी प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक अंतरिक्ष राजावत ने बताया कि राजस्थान के दौसा में पांच, झुंझुनूं में दस ड्रोन कर्फ्यूग्रस्त और लॉकडाउन वाले इलाकों पर निगरानी के लिये लगाए गए हैं। हाल ही में भिवाडी में पांच ड्रोन लगाने की अनुमति मिली है। उन्होंने बताया कि कर्फ्यूग्रस्त और लॉकडाउन वाले इलाकों में दो तरह के ड्रोन स्थापित किये गये है। एक ड्रोन से वीडियो के जरिये निगरानी और दूसरे ड्रोन के जरिये पुलिस साईरन बजने के बाद सार्वजनिक सूचनाएं प्रसारित की जाती हैं।

इसे भी देखें : अब शुरुआती लक्षण में ही खुद को करना होगा Home Quarantine   





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।