घर में उठे अखंड भारत की आवाजों से बेचैन इमरान बौखलाहट में कर रहे अपना घाटा

By अभिनय आकाश | Publish Date: Aug 8 2019 10:59AM
घर में उठे अखंड भारत की आवाजों से बेचैन इमरान बौखलाहट में कर रहे अपना घाटा
Image Source: Google

इमरान ने कश्मीर के मु्ददे पर नेशनल सिक्योरिटी कमेटी की आपातकालीन बैठक में भारत से रिश्ते तोड़ने वाले फैसले भी लिए। इमरान खान की बौखलाहट वाजिब है। उन्हें पाकिस्तान की जनता को जवाब देना है। उन्हें पता है कि अब भारत का अगला निशाना पीओके, गिलगिट और बलुचिस्तान के इलाके होंगे। उन क्षेत्रों से भारत में मिलने की मांग एक बार फिर नए सिरे से उठने लगी है।

भारत के अनुछेद 370 हटाने के फैसले के बाद से पिछले तीन दिन से पाकिस्तान के होश उड़े हुए हैं। ऐसा लग रहा है जैसे भारत ने अपने संविधान की कोई धारा नहीं बल्कि पाकिस्तान के संविधान की कोई धारा हटा दी है। पाकिस्तान की तड़प और बेचैनी देखकर समझ में ये आ रहा है कि बॉर्डर पर चोट बहुत गहरी लगी है। पाकिस्तान को ऐसा लग रहा है, जैसे भारत ने उस पर हमला कर दिया है और इस बेचैनी में पाकिस्तान कभी पुलवामा जैसे हमले की संभावना व्यक्त कर रहा है तो कभी संयुक्त राष्ट्र का दरवाजा खटखटाने की बात कर रहा है।

इसे भी पढ़ें: कश्मीर के लोग विकास चाहते है जो अब संभव होगा: राम माधव

इमरान ने कश्मीर के मु्ददे पर नेशनल सिक्योरिटी कमेटी की आपातकालीन बैठक में भारत से रिश्ते तोड़ने वाले फैसले भी लिए। इमरान खान की बौखलाहट वाजिब है। उन्हें पाकिस्तान की जनता को जवाब देना है। उन्हें पता है कि अब भारत का अगला निशाना पीओके, गिलगिट और बलुचिस्तान के इलाके होंगे। उन क्षेत्रों से भारत में मिलने की मांग एक बार फिर नए सिरे से उठने लगी है। पाकिस्तान ने उन्हें सेना के बल पर अपने कब्जे में रखा है। पाकिस्तानी हुक्मरानों की शासन व्यवस्था से सीमावर्ती इलाके ही नहीं स्वयं उसकी राजधानी इस्लामाबाद तक के लोग खुश नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान के फैसले से भारत पर कोई फर्क नहीं पड़ने वाला: सलमान खुर्शीद



जम्मू-कश्मीर पर भारत के ऐतिहासिक निर्णय के बाद इस्लामाबाद की दीवारों पर शिवसेना के नाम के पोस्टरों का लग जाना इसी बात की अलामत है। बता दें कि पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद के कई हिस्सों में भारत समर्थक बैनर दिखाई दिए। इन बैनर्स पर शिवसेना नेता और राज्यसभा के सदस्य संजय रावत का अखंड भारत वाला बयान छपा हुआ है। इन बैनर्स की वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है। इस्लामाबाद के एक शख्स ने भी इन बैनर्स को देख वीडियो बनाया और बताया कि ऐसे पोस्टर इस्लामाबाद प्रेस क्लब के पास मौजूद हर सड़क के खंभों पर लगे हुए हैं। इस शख्स ने आगे कहा कि, "इंडिया इस्लामाबाद में आकर ऐसे पोस्टर लगा रहे हैं, कि क्या हम दिल्ली या मुम्बई जाकर ऐसे पोस्टर लगा सकते हैं। हालांकि सोशल मीडिया पर इन पोस्टरों के वीडियो वायरल होने के कुछ घंटों बाद पुलिस ने यहां ब्लू एरिया से एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया, जिसे बैनर लगाने का जिम्मेदार माना जा रहा है। भारतीय जनता पार्टी के दिल्ली के प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने भी अपने ट्विटर अकाउंट पर इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा "Posters in Pakistan"।

लेकिन सबसे बड़ा सवाल कि भला इस्लामाबाद तक शिवसेना की पहुंच कैसे हो सकती है। यह भारत के एक राज्य महाराष्ट्र की क्षेत्रीय पार्टी है। निश्चित रूप से यह पाकिस्तानी अवाम के उस हिस्से की भावनाओं की अभिव्यक्ति है जो सेना और आइएसआई के इशारे पर नाचने वाली कठपुतली सरकार को पसंद नहीं करती और उससे मुक्ति चाहती है। लिहाजा इमरान खान को सबसे पहले अपना घर संभालने में हो रही मुश्किल और छटपटाहट से जूढ रहे इमरान को लग रहा है कि कहीं कश्मीर के चक्कर में कहीं घर से भी हाथ न धो बैठें। फिलहाल उन्हें आतंकवाद के पोषक देश के रूप में अपनी पहचान बदलनी है। विश्व समुदाय की उनकी गतिविधियों पर कड़ी नज़र है। कुछ इस्लामी देशों का साथ मिला भी तो वे कुछ कर नहीं सकेंगे।



इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान ने भारतीय उच्चायुक्त को किया निष्कासित, राजनयिक संबंध प्रभावित

भारत के साथ युद्ध लड़ने की स्थिति में वे हैं नहीं। संयुक्त राष्ट्र के शरण में जाकर गिड़गिड़ाने की दुहाई देने वाले इमरान को यह भान नहीं है कि संयुक्त राष्ट्र के महासचिव जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को हटाए जाने, उसे केंद्रशासित राज्य बनाए जाने और लद्दाख को उससे अलग के जाने के मसले पर कोई टिप्पणी करने से परहेज़ कर रहे हैं। निश्चित रूप से संयुक्त राष्ट्र संघ इस मुद्दे को उस रूप में नहीं देख रहा है जिस रूप में इमरान खान दिखाना चाह रहे हैं। जिसके बाद पाकिस्तान और उसके कप्तान के पास अपना सर दीवार पर पटकने के अलावा और कोईपास कोई चारा नहीं बच रहा है। इमरान भारत से राजनयिक और व्यापारिक संबंध तोड़ने का ऐलान कर अपनी आवाम को यह जताने की कोशिश कर रहे हैं कि पाकिस्तान में सब ALL Is Well है और वो भारत के खिलाफ कड़े कदम उठा सकता है। वो और बात है कि वास्तिवकतैा की कसौटी पर इसमें पाकिस्तान का ही घाटा है और इससे भारत का कुछ नहीं जाता है।  

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप