नवरात्रि के आठवें दिन दुर्गा स्वरूप कन्याओं ने प्लास्टिक का उपयोग ना करने का आग्रह किया

नवरात्रि के आठवें दिन दुर्गा स्वरूप कन्याओं ने प्लास्टिक का उपयोग ना करने का आग्रह किया

कन्याओं के साथ ही भैरव के प्रतीक स्वरूप बटुकों का भी पूजन किया गया। कन्याओं का स्वागत करने के बाद उन्हें भोग स्वरूप प्रसाद अर्पित किया गया। कन्याओं को हलवा, पूड़ी, सब्जी, चने की घुघरी और मिष्ठान का भोग लगाया गया।

नवरात्रि के आठवें दिन यानी अष्टमी तिथि पर देवी के आठवें स्वरूप महागौरी नमामि गंगे की ओर से पूजा अर्चना किया गया इसके उपरांत नमामि गंगे ने नौ कन्याओं को देवी का स्वरूप मानकर पूजन किया। कन्याओं के साथ ही भैरव के प्रतीक स्वरूप बटुकों का भी पूजन किया गया। कन्याओं का स्वागत करने के बाद उन्हें भोग स्वरूप प्रसाद अर्पित किया गया। कन्याओं को हलवा, पूड़ी, सब्जी, चने की घुघरी और मिष्ठान का भोग लगाया गया। 

इसे भी पढ़ें: बौद्ध सर्किट ट्रेन को केंद्रीय मंत्री ने सफदरजंग स्टेशन से दिखायी हरी झंडी

इसके साथ ही उन्हें उपहार एवं दक्षिणा दिया गया। पूजन के दौरान स्वच्छता का संदेश देते हुए कन्याओं में झोले का वितरण हुआ। दुर्गा स्वरुपा कन्याओं ने वहां उपस्थित सभी लोगों  से सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग न करने की अपील की। इस सारे कार्यक्रम के संयोजक राजेश शुक्ला ने बातचीत में कहा कि नवरात्र में माता दुर्गा स्वच्छता का भी संदेश देती हैं, उन्हें साफ सफाई अधिक प्रिय है और जहां स्वच्छता होती  है। वही उनका वास होता है, बिना स्वच्छता के  माता कोई पूजा स्वीकार नहीं करती हैं।

इसे भी पढ़ें: देश-विदेश घूमने वाले PM किसानों से नहीं कर सकते बात, प्रियंका बोलीं- पीड़ित परिवार को न्याय चाहिए

स्वच्छता धर्म है इसलिए हर पूजा पद्धति में स्वच्छता सर्वोपरि है। सिंगल यूज प्लास्टिक ने हमारे जीवन में गंदगी उत्पन्न कर कूड़े-कचरे का अंबार खड़ा कर दिया है। पॉलिथीन के उपयोग के कारण हमारे पर्यावरण पर हानिकारक असर पड़ रहा है। इसके साथ ही उन्होंने आगे कहा की सिंगल यूज प्लास्टिक हमारी माता की तरह हितकारिणी एवं नदियों के लिए जहरीला साबित हो रहा है, इसलिए हमें इसके उपयोग से बचना चाहिए  और हमारे पर्यावरण को सुरक्षित रखना चाहिए। नमामि गंगे ने कन्याओं के माध्यम से सभी लोगों से सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग न करने का आग्रह किया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।