2014-19 के दौरान 1,513 किसानों ने आत्महत्या की लेकिन अनुग्रह राशि सिर्फ 391 मामलों में दी गयी: जगन

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 10 2019 5:46PM
2014-19 के दौरान 1,513 किसानों ने आत्महत्या की लेकिन अनुग्रह राशि सिर्फ 391 मामलों में दी गयी: जगन
Image Source: Google

जगन ने कहा कि उनकी सरकार ‘‘जनता की सरकार है और वह मानवीय दृष्टिकोण रखती’’ है और प्रशासन के व्यवहार से यह बात झलकनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने हर स्तर पर भ्रष्टाचार खत्म करने की आवश्यकता पर भी जोर दिया।

अमरावती। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने बुधवार को बताया कि राज्य में 2014 से 2019 के दौरान 1,513 किसानों ने आत्महत्या की, जबकि 391 परिवारों को अनुग्रह राशि दी गयी। मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये राज्य मुख्यालयों से जिला कलेक्टरों और पुलिस अधीक्षकों को संबोधित किया। उन्होंने कहा, ‘‘राज्य में जिला अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़े के अनुसार 2014-19 के दौरान 1,513 किसानों ने आत्महत्या की लेकिन सिर्फ 391 मामलों में ही अनुग्रह राशि दी गयी।’’

इसे भी पढ़ें: राजनाथ सिंह व जगन मोहन रेड्डी ने अवसंरचना परियोजनाओं में प्रगति की समीक्षा की

उन्होंने कलेक्टरों को निर्देश दिया कि वे इन आंकड़ों की पुष्टि करें और इसके हकदार सभी शोकसंतप्त परिवारों को तत्काल मुआवजा दिया जाये। जगन ने कलेक्टरों को कहा, ‘‘स्थानीय विधायक के साथ उन परिवारों के पास जायें और उनमें आत्मविश्वास जगायें। हर परिवार को राज्य सरकार की ओर से सात लाख रुपये की अनुग्रह राशि का भुगतान करें। हम लोग यह सुनिश्चित करने के लिये एक कानून लेकर आयेंगे ताकि अनुग्रह राशि गलत हाथों में नहीं जाये।’’ जगन ने कहा कि उनकी सरकार ‘‘जनता की सरकार है और वह मानवीय दृष्टिकोण रखती’’ है और प्रशासन के व्यवहार से यह बात झलकनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने हर स्तर पर भ्रष्टाचार खत्म करने की आवश्यकता पर भी जोर दिया।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story