तमिलनाडु में ई-पास प्रणाली समाप्त, बस सेवा शुरू होगी, पूजा स्थलों को खोलने की अनुमति

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 31, 2020   08:20
तमिलनाडु में ई-पास प्रणाली समाप्त, बस सेवा शुरू होगी, पूजा स्थलों को खोलने की अनुमति

पलानीस्वामी ने एक बयान में कहा कि उपनगरीय रेल सेवाएं निरस्त रहेंगीलेकिन चेन्नई मेट्रो को सात सितंबर से दोबारा शुरू किया जाएगा। बयान के मुताबिक, जिलों के भीतर बस सेवाएं (निजी एवं सरकारी) और चेन्नई महानगर बस सेवा का संचालन एक सितंबर से शुरू किया जाएगा।

चेन्नई।  तमिलनाडु सरकार ने रविवार को कोविड-19 के मद्देनजर लागू लॉकडाउन के प्रतिबंधों में बड़े स्तर पर छूट की घोषणा की, जिसके तहत राज्य में लोगों को आवाजाही के लिए अब ई-पास की आवश्यकता नहीं रहेगी और जिलों के भीतर सार्वजनिक एवं निजी बस परिवहन सेवा बहाल की जाएंगी। यह सभी छूट एक सिंतबर से प्रभावी होंगी। मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी ने कहा कि पूजा स्थल एवं शॉपिंग मॉल भी खोले जाएंगे। हालांकि, राज्य के निषिद्ध क्षेत्रों में कोई छूट लागू नहीं होगी।

साथ ही 30 सितंबर तक बढ़ाए गए लॉकडाउन के दौरान धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा समेत वायरस की रोकथाम के अन्य उपाय लागू रहेंगे। शिक्षण संस्थानों को भी बंद रखने का आदेश दिया गया है। पलानीस्वामी ने एक बयान में कहा कि उपनगरीय रेल सेवाएं निरस्त रहेंगीलेकिन चेन्नई मेट्रो को सात सितंबर से दोबारा शुरू किया जाएगा। बयान के मुताबिक, जिलों के भीतर बस सेवाएं (निजी एवं सरकारी) और चेन्नई महानगर बस सेवा का संचालन एक सितंबर से शुरू किया जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: तमिलनाडु में कोरोना संक्रमण के आंकड़े चार लाख के पार, 6,000 से अधिक नये मामले आए सामने

राज्य सरकार ने कहा कि एक से दूसरे जिले में जाने के लिए ई-पास की आवश्यकता नहीं रहेगी। हालांकि, देश के अन्य राज्यों से आने वालों के प्रवेश पर यह जारी रहेगा। पलानीस्वामी ने कहा कि शॉपिंग मॉल, शोरूम और बड़े स्टोर अपने कर्मचारियों की 100 फीसदी क्षमता के साथ खोले जा सकते हैं लेकिन सिनेमा घर अब भी बंद ही रहेंगे। उन्होंने कहा कि सितंबर की शुरुआत से ही पूरे तमिलनाडु राज्य में पूर्ण लॉकडाउन नहीं रहेगा। राज्य में पिछले दो महीने से प्रत्येक रविवार को पूर्ण लॉकडाउन लागू रहता था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।