शिक्षा मंत्री ने राष्ट्रीय बाल भवन से बच्चों के लिये राष्ट्रीय स्तर का पुरस्कार योजना बनाने को कहा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 25, 2020   20:40
शिक्षा मंत्री ने राष्ट्रीय बाल भवन से बच्चों के लिये राष्ट्रीय स्तर का पुरस्कार योजना बनाने को कहा

शिक्षा मंत्रालय के बयान के अनुसार, केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा, ‘‘ राष्ट्रीय बाल भवन हमारे बच्चों को विभिन्न गतिविधियां सिखाने वाला एक बड़ा मंच है और हमें इसकी गतिविधियों का क्षेत्रीय केन्द्रों तक विस्तार करना चाहिए, जिससे ज्यादा से ज्यादा बच्चे इस मंच का लाभ उठा सकें।’’

नयी दिल्ली। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने मंगलवार को राष्ट्रीय बाल भवन से बच्चों के लिए एक राष्ट्रीय स्तर का पुरस्कार शुरू करने के लिये योजना बनाने को कहा। निशंक ने नयी दिल्ली में राष्ट्रीय बाल भवन की समीक्षा बैठक में अधिकारियों को यह निर्देश दिया। शिक्षा मंत्रालय के बयान के अनुसार, केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा, ‘‘ राष्ट्रीय बाल भवन हमारे बच्चों को विभिन्न गतिविधियां सिखाने वाला एक बड़ा मंच है और हमें इसकी गतिविधियों का क्षेत्रीय केन्द्रों तक विस्तार करना चाहिए, जिससे ज्यादा से ज्यादा बच्चे इस मंच का लाभ उठा सकें।’’ 

इसे भी पढ़ें: भारतीय संकेत भाषा को देशभर में मानकीकृत करेगी सरकार, शिक्षा मंत्री ने ट्वीट करके दी जानकारी

उन्होंने कहा, ‘‘ बच्चों में रचनात्मक गतिविधियों को प्रोत्साहन देने के क्रम में राष्ट्रीय बाल भवन को बच्चों के लिए एक राष्ट्रीय स्तर का पुरस्कार शुरू करना चाहिए। ’’ निशंक ने अधिकारियों को इस संबंध में एक योजना बनाने के निर्देश दिए। केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने अधिकारियों से राष्ट्रीय बाल भवन में खाली पड़े पदों को भरने की प्रक्रिया में तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने वेबिनार के माध्यम से विद्यार्थियों के लिए सांस्कृतिक आदान-प्रदान के कार्यक्रमों पर ध्यान केन्द्रित करने के निर्देश दिये।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।