ईद उल अज़हा के चांद के दीदार नहीं हुए, एक अगस्त से मनाई जाएगी बकरीद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 21, 2020   22:36
ईद उल अज़हा के चांद के दीदार नहीं हुए, एक अगस्त से मनाई जाएगी बकरीद

दिल्ली की फतेहपुरी मस्जिद के शाही इमाम मौलाना मुफ्ती मुकर्रम ने से कहा, दिल्ली समेत भारत में कहीं भी चांद नजर नहीं आया है। बकरीद एक अगस्त, ब-रोज़ शनिवार को मनाई जाएगी।

नयी दिल्ली।  राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली समेत देश में कहीं पर भी मंगलवार को ईद उल अज़हा का चांद नज़र नहीं आया। लिहाज़ा बकरीद का त्यौहार अब एक अगस्त को मनाया जाएगा। दिल्ली की फतेहपुरी मस्जिद के शाही इमाम मौलाना मुफ्ती मुकर्रम ने से कहा, दिल्ली समेत भारत में कहीं भी चांद नजर नहीं आया है। बकरीद एक अगस्त, ब-रोज़ शनिवार को मनाई जाएगी। उन्होंने कहा, दिल्ली में आसमान साफ नहीं था, लेकिन तमिलनाडु और मध्य प्रदेश में जहां आसमान साफ था, वहां से भी चांद नहीं दिखा है। वहीं इमारत ए शरिया हिंद ने भी ऐलान किया कि ईद उल अज़हा या ज़ुहा का त्यौहार एक अगस्त को मनाया जाएगा।

इमारत ए शरिया हिंद की रूयत ए हिलाल समिति के सचिव मुईजुद्दीन अहमद ने एक बयान में कहा, दिल्ली में चांद नहीं दिखा है न ही देश के किसी हिस्से से चांद नजर आने की कोई खबर है। अहमद ने कहा, इस्लामी कलैंडर के 12वें महीने ज़िल हिज्जा की पहली तारीख 23 जुलाई को होगी और ईद उल अज़हा एक अगस्त को मनाई जाएगी। बकरीद का त्यौहार चांद दिखने के 10वें दिन मनाया जाता है। इस बीच मुफ्ती मुकर्रम ने कहा , मुस्लिम समुदाय के जिन लोगों के पास करीब 612 ग्राम चांदी है या इसके बराबर के पैसे हैं, उन पर कुर्बानी वाजिब है। मौलाना मुकर्रम ने कहा, यह जरूरी नहीं है कि कुर्बानी अपने घर या शहर में ही की जाए। जहां लॉकडाउन लगा है, वहां के लोग अन्य स्थानों पर रहने वाले अपने परिचितों या रिश्तेदारों को कुर्बानी करने के लिए पैसे भेज सकते हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।