द्रमुक से चुनावी चंदा मिला, लेकिन पारदर्शी तरीके से, ब्योरा आयोग को देंगे: राजा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 26, 2019   18:13
द्रमुक से चुनावी चंदा मिला, लेकिन पारदर्शी तरीके से, ब्योरा आयोग को देंगे: राजा

चुनाव आयोग को द्रमुक द्वारा दिये गये चुनाव खर्च के ब्योरे में इस बात का खुलासा हुआ है कि पार्टी ने लोकसभा चुनाव के दौरान भाकपा को 15 करोड़ रुपये और माकपा को दस करोड़ रुपये दिये थे। द्रमुक और वामदलों ने तमिलनाडु में गठबंधन करके चुनाव लड़ा था।

नयी दिल्ली। लोकसभा चुनाव के दौरान तमिलनाडु में द्रमुक से वामदलों को चंदे के रूप में 25 करोड़ रुपये मिलने से उपजे विवाद पर भाकपा महासचिव डी राजा ने गुरुवार को कहा कि गठबंधन के सहयोगियों को दी जाने वाली इस तरह की सहायता तमिलनाडु की राजनीति में सामान्य बात है। साथ ही उन्होंने कहा कि चंदे की राशि पारदर्शी तरीके से दी गयी और इसका ब्योरा चुनाव आयोग को दिया जायेगा।  राजा ने संवाददाताओं को बताया कि भाकपा को चुनावी चंदे के रूप में द्रमुक से पैसा पारदर्शी तरीके से मिला। इसमें कुछ भी छुपाया नहीं गया है।

इसे भी पढ़ें: TMC, CPI और NCP ने EC से मांगा एक मौका, कहा- आगामी चुनावों में करेंगे प्रदर्शन बेहतर

चुनाव आयोग को द्रमुक द्वारा दिये गये चुनाव खर्च के ब्योरे में इस बात का खुलासा हुआ है कि पार्टी ने लोकसभा चुनाव के दौरान भाकपा को 15 करोड़ रुपये और माकपा को दस करोड़ रुपये दिये थे। द्रमुक और वामदलों ने तमिलनाडु में गठबंधन करके चुनाव लड़ा था। राजा ने कहा, ‘‘यह सही है कि भाकपा को द्रमुक से पैसा मिला था, यह तमिलनाडु में गठबंधन की राजनीति का हिस्सा है। इसमें कुछ भी अनैतिक नहीं है। पैसे का लेन-देन बैंक के जरिये पारदर्शी तरीके से किया गया। जब हम चुनाव आयोग को पार्टी के चुनाव खर्च का ब्योरा देंगे, तब स्थिति स्वत: स्पष्ट हो जायेगी।’’ 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।