संप्रदाय विशेष के मतदान को लेकर कमलनाथ के वीडियो पर चुनावी बवाल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 21, 2018   20:40
संप्रदाय विशेष के मतदान को लेकर कमलनाथ के वीडियो पर चुनावी बवाल

इस वीडियो में कमलनाथ कथित तौर पर यह कहते सुनायी पड़ रहे हैं कि अगर चुनावों में मुसलमान समाज के 90 प्रतिशत वोट नहीं पड़े, तो कांग्रेस को बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है।

इंदौर। मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के सोशल मीडिया पर सामने आये विवादास्पद वीडियो को लेकर भाजपा ने सूबे के प्रमुख विपक्षी दल पर बुधवार को आरोप लगाया कि वह सूबे के आसन्न विधानसभा चुनावों में सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के हथकंडे अपना रहा है। इस वीडियो में कमलनाथ कथित तौर पर यह कहते सुनायी पड़ रहे हैं कि "अगर चुनावों में मुसलमान समाज के 90 प्रतिशत वोट नहीं पड़े, तो कांग्रेस को बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है।" 

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सम्बित पात्रा ने यहां संवाददाताओं से कहा, "सूबे के चुनावों में मतदाताओं को ठगने के लिये कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को पिछले दिनों फैंसी ड्रेस हिंदूवाद का प्रदर्शन करते देखा गया है। लेकिन कमलनाथ के ताजा वीडियो से कांग्रेस का चाल, चरित्र और चेहरा सामने आ गया है।" उन्होंने कहा, "बंद कमरे में एक संप्रदाय विशेष के लोगों से चर्चा के दौरान कमलनाथ के विवादास्पद बोल से तसदीक हो गयी है कि सूबे के विधानसभा चुनावों में हताश हो चुकी कांग्रेस सांप्रदायिक ध्रुवीकरण के हथकंडे अपना रही है और अपने फायदे के लिये दो वर्गों के बीच खाई पैदा करना चाहती है।" 

उधर, प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने आरोप लगाया कि भाजपा के "डर्टी ट्रिक्स डिपार्टमेंट" ने कमलनाथ के वीडियो में काट-छांटकर इसका चुनिंदा हिस्सा सोशल मीडिया पर डाला है। उन्होंने कहा, "कमलनाथ सूबे में पिछले 15 साल से सत्तारूढ़ भाजपा से किसानों की बुरी स्थिति, महिलाओं से बढ़ते बलात्कार और अन्य वास्तविक मुद्दों पर लगातार सवाल पूछ रहे हैं। लेकिन इन मुद्दों से मतदाताओं का ध्यान भटकाने के लिये भाजपा के लोग नित नये हथकंडे अपना रहे हैं।" ओझा ने कहा कि कमलनाथ हर जाति और संप्रदाय के लोगों से मिलकर अपील कर रहे हैं कि वे 28 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनावों में अधिक से अधिक मतदान करें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।