J&K पंचायत चुनाव में उच्च शिक्षा की डिग्री हासिल करने वाले लड़ रहे हैं चुनाव

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2018   11:05
J&K पंचायत चुनाव में उच्च शिक्षा की डिग्री हासिल करने वाले लड़ रहे हैं चुनाव

जम्मू-कश्मीर में जमीनी स्तर पर बदलाव लाने के लिए पंचायत चुनाव में कई ऐसे उम्मीदवार हिस्सा ले रहे हैं जिनके पास उच्च शिक्षा की डिग्रियां हैं।

जम्मू। जम्मू-कश्मीर में जमीनी स्तर पर बदलाव लाने के लिए पंचायत चुनाव में कई ऐसे उम्मीदवार हिस्सा ले रहे हैं जिनके पास उच्च शिक्षा की डिग्रियां हैं। सिंधु भल्ला शर्मा के पास संस्कृत विषय में एमफिल की डिग्री है और वह किश्तवाड़ जिले के अपने पैतृक अंजोल गांव से चुनाव लड़ रही हैं। शर्मा के मुताबिक वह छवि राजावत से प्रेरित हैं। राजावत राजस्थान की सोडा से सरपंच हैं और वह देश की सबसे कम उम्र की सरपंचों में से एक हैं। राजावत के पास एमबीए की डिग्री है और उन्होंने सरपंच बनने के लिए देश की बड़ी टेलीकॉम कंपनी से अपनी कॉरपोरेट नौकरी छोड़ दी थी। टेकसेवी 36 वर्षीय राजावत की प्रशंसा ग्रामीण राजस्थान की तस्वीर बदलने के लिए की जाती है।

शर्मा ने कहा, ‘राजावत की अपने पैतृक गांव को विकसित करने की प्रतिबद्धता से मैं प्रभावित हूं। मैं अपने गांव में बदलाव लाने में योगदान देने के लिए चुनाव लड़ने का फैसला किया है।' इसके अलावा आरती शर्मा नाम की उच्च शिक्षा प्राप्त महिला उधमपुर के घोरडी खास वेस्ट कुलन के सरपंच पद पर चुनाव लड़ रही हैं। उन्होंने कहा, ‘यहां कई ऐसे मुद्दे हैं जिन्हें मैं सुलझाना चाहती हूं। अगर मुझे बहुमत मिलता है तो मेरी इच्छा ग्रामीण महिलाओं को सशक्त करने की दिशा में है।'

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर शहरी स्थानीय निकाय की खास बातें, 16 लाख लोग करेंगे मतदान

वहीं वनस्पति शास्त्र में पीएचडी की डिग्री हासिल करने वाले पृथ्वी राज किश्तवाड़ जिले के लोहराना-ए पंचायत से सरपंच का चुनाव लड़ रहे हैं। लोहराना-बी से अंग्रेजी और राजनीतिक विज्ञान में मास्टर डिग्री हासिल करने वाले मंसूर हुसैन सरपंच पद का चुनाव लड़ रहे हैं। राज्य में 17 नवंबर से 11 दिसंबर के बीच नौ चरण में पंचायत चुनाव आयोजित किये जा रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।