100 फीसदी वीवीपैट मिलान की याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज

By अभिनय आकाश | Publish Date: May 21 2019 11:25AM
100 फीसदी वीवीपैट मिलान की याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज
Image Source: Google

सुप्रीम कोर्ट ने टेक्नोक्रेट्स के एक समूह द्वारा दायर याचिका को खारिज करते हुए निर्देश दिया कि वीवीपीएटी के सत्यापन के अधीन मशीनों की संख्या को 100% तक बढ़ाया जाए।

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने लोकसभा चुनाव के लिए 23 मई को होने वाली मतगणना के दौरान ईवीएम के साथ वीवीपीएटी को शत प्रतिशत मिलाए जाने की मांग करने वाली याचिका खारिज की। यह याचिका चेन्नई के एक गैर सरकारी संगठन ‘टेक फार आल’ की ओर से दायर की गयी थी।

इसे भी पढ़ें: जहां वीवीपैट और EVM आंकड़ों में मिलान नहीं होता, वहां पर्चियों की गिनती हो: येचुरी

सुप्रीम कोर्ट दायर याचिका को खारिज करते हुए करते हुए कोर्ट ने निर्देश दिया कि वीवीपीएटी के सत्यापन के अधीन मशीनों की संख्या को 100% तक बढ़ाया जाए। शीर्ष अदालत की एक अवकाश पीठ ने याचिका में कोई योग्यता नहीं पाई। अवकाश पीठ ने कहा कि प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली अदालत की वृहद पीठ इस मामले में सुनवाई कर आदेश पारित कर चुकी है। शीर्ष अदालत ने कहा, ‘‘प्रधान न्यायाधीश इस मामले का निस्तारण कर चुके हैं । न्यायमूर्ति मिश्र ने कहा, ‘‘हम प्रधान न्यायाधीश के आदेश की अवहेलना नहीं कर सकते हैं। बता दे सुप्रीम कोर्ट का फैसला ऐसे वक्त में आया है जब तमाम दल के नेता लोकसभा चुनाव संपन्न होने के बाद एक बार फिर ईवीएम विरोध के मामले में मुखर होकर बयान दे रहे हैं। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video