पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फैसल की पार्टी नहीं लड़ेगी लोकसभा चुनाव

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 23, 2019   18:58
पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फैसल की पार्टी नहीं लड़ेगी लोकसभा चुनाव

पूर्व आईएएस अधिकारी ने कहा कि चुनाव नहीं लड़ने का मुख्य कारण जनसम्पर्क कार्यक्रमों पर अधिक ध्यान केन्द्रित करना है।

श्रीनगर। पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फैसल ने शनिवार को कहा कि हाल ही में गठित उनकी ‘जम्मू एंड कश्मीर पीपल्स मूवमेंट’ (जेकेपीएम) पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेगी। लेकिन उन्होंने लोगों से बड़ी संख्या में ‘सही उम्मीदवारों’ को वोट देने की अपील की। फैसल ने यहां पत्रकारों से कहा कि हमने पिछले कुछ दिनों में अपनी पार्टी के कोर ग्रूप की कई बैठकें की और हमने तय किया कि हम इस बार लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। पूर्व आईएएस अधिकारी ने कहा कि चुनाव नहीं लड़ने का मुख्य कारण जनसम्पर्क कार्यक्रमों पर अधिक ध्यान केन्द्रित करना है।

इसे भी पढ़ें: कश्मीर और दिल्ली के बीच दूरियां कम करने के लिए काम करेंगे: शाह फैसल

उन्होंने कहा कि सर्वसम्मत विचार यह था कि हम अब भी शुरुआती चरण में हैं और हमें जनसम्पर्क कार्यक्रम पर भी ध्यान देना चाहिए। यह उन तत्वों को भी जवाब है, जो आरोप लगा रहे थे कि मौजूदा चुनाव में वोटों का बंटवारा करने के लिए हम केंद्र की कठपुतली हैं। उन्होंने कहा कि उचित समय आने पर बताया जाएगा कि जेकेपीएम कार्यकर्ता किस पार्टी या उम्मीदवार का समर्थन करेंगे। फैसल ने हालांकि कहा कि लोगों को बढ़-चढ़कर लोकतंत्र की इस प्रक्रिया में हिस्सा लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि बहिष्कार हो या नहीं हो...चुनाव होंगे और संसद के लिए लोग चुने जाएंगे। इसलिए लोगों को लोकतांत्रिक प्रक्रिया में हिस्सा लेना चाहिए ताकि सही उम्मीदवार चुना जाए। भारतीय संविधान की धारा 370 और 35ए को लेकर उनकी पार्टी के रुख पर उन्होंने कहा कि वे इन प्रावधानों के संरक्षण के लिए खड़े हैं, जो जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।