तमिलनाडु सरकार को सुझाव देने के लिए गणित समिति के सदस्य ने कहा, लॉकडाउन के विस्तार की सिफारिश नहीं की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 29, 2020   18:32
तमिलनाडु सरकार को सुझाव देने के लिए गणित समिति के सदस्य ने कहा, लॉकडाउन के विस्तार की सिफारिश नहीं की

बैठक में विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रमुख वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन समेत अन्य विशेषज्ञों ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए हिस्सा लिया। उन्होंने कहा कि शिविर कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों का जल्द पता लगाने और मामले दुगुना होने के समय को बढ़ाने में भी सहायक साबित हो रहे हैं।

चेन्नई। कोविड-19 महामारी से निपटने के संबंध में तमिलनाडु सरकार को सुझाव देने के लिए गठित विशेषज्ञ समिति कुछ खास क्षेत्रों में स्थिति के अनुसार प्रतिबंध लागू रखने के पक्ष में है लेकिन उसने मंगलवार तक लागू लॉकडाउन को राज्य में और विस्तार दिए जाने की सिफारिश नहीं की है। समिति के एक सदस्य ने यह जानकारी दी। मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी की अध्यक्षता में यहां हुई बैठक में हिस्सा लेने के बाद आईसीएमआर के राष्ट्रीय महामारी विज्ञान संस्थान की डॉ प्रभदीप कौर ने कहा कि समिति ने शहर में चलाए जा रहे बुखार शिविरों (फीवर कैंप) की कामयाब पहल को राज्य के अन्य भागों में विस्तार देने की भी सिफारिश की है। बैठक में विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रमुख वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन समेत अन्य विशेषज्ञों ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए हिस्सा लिया। 

इसे भी पढ़ें: देश को दहला देने वाली तमिलनाडु पुलिस की दरिंदगी की होगी अब CBI जांच 

उन्होंने कहा कि शिविर कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों का जल्द पता लगाने और मामले दुगुना होने के समय को बढ़ाने में भी सहायक साबित हो रहे हैं। कौर ने कहा कि हमारी समिति ने लॉकडाउन की सिफारिश नहीं की। यह एक सीधा तरीका है। हालांकि, सर्वोत्तम उपाय नहीं है, कभी-कभी इसकी आवश्यकता होती है। चेन्नई में, लॉकडाउन मामले दोगुना होने के समय में इजाफा करने में सहायक साबित हुआ और संक्रमण में भी कमी लाने में मददगार रहा। लेकिन अकेले लॉकडाउन ही कोविड-19 का समाधान नहीं है और हम सदा के लिए लॉकडाउन लागू नहीं रख सकते। रविवार तक राज्य में 82,275 मामले थे जबकि मृतक संख्या 1,079 तक पहुंच चुकी थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...