सरकार का चेहरा भले बदल जाए, पर काम जारी रहता है: त्रिवेंद्र सिंह रावत

Trivendra Singh Rawat
त्रिवेंद्र के कार्यकाल के चार साल पूरा होने से नौ दिन पहले ही तीरथ सिंह रावत को नया मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया था। त्रिवेंद्र रावत ने कहा कि महिलाओं के उत्थान और गरीबों के कल्याण के लिए शुरू की गई योजनाएं उनके कार्यकाल की उपलब्धियों में शामिल हैं।
कोटद्वार (उत्तराखंड)। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बुधवार को कहा कि राज्य सरकार का चेहरा भले ही बदल गया हो, लेकिन उनके द्वारा शुरू किए गए काम जारी हैं। इसी महीने त्रिवेंद्र सिंह रावत के स्थान पर तीरथ सिंह रावत को प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया गया था। त्रिवेंद्र के कार्यकाल के चार साल पूरा होने से नौ दिन पहले ही तीरथ सिंह रावत को नया मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया था। त्रिवेंद्र रावत ने कहा कि महिलाओं के उत्थान और गरीबों के कल्याण के लिए शुरू की गई योजनाएं उनके कार्यकाल की उपलब्धियों में शामिल हैं। 

इसे भी पढ़ें: तय समय से पहले हो सकता है उत्तराखंड विधानसभा चुनाव ! अटकलों को ऐसे मिल रहा बल

पूर्व मुख्यमंत्री ने यहां पनियाली गेस्ट हाउस में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि भले ही सरकार का चेहरा बदल गया हो, लेकिन उनके द्वारा शुरू किए गए कार्य बिना किसी बाधा के चलते रहेंगे। उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान महिलाओं के उत्थान और गरीबों के कल्याण के लिए शुरू की गयी योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि इन योजनाओं के जरिए लोगों को सशक्त बनाने का प्रयास किया गया। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में सौर ऊर्जा संयंत्रों का विस्तार उनके कार्यकाल की एक और उल्लेखनीय उपलब्धि है। 

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड में तीन नए मेडिकल कॉलेजों पर जल्द शुरू होगा काम: तीरथ सिंह रावत

उन्होंने कहा, ‘‘इसके परिणामस्वरूप, पर्वतीय क्षेत्रों में आज कई स्थानों पर सौर ऊर्जा संयंत्र देखे जा सकते हैं। कई संयंत्र अभी तैयार हो रहे हैं।’’ हाल ही में तीरथ सिंह रावत द्वारा पौड़ी जिले में पीडब्ल्यूडी के दो इंजीनियरों को निलंबित किए जाने के संबंध में पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकारियों को निलंबित करना या नहींकरना मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार है। उन्होंने तीरथ सिंह रावत के हालिया विवादास्पद बयानों के बारे में कोई टिप्पणी नहीं की।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़