फडणवीस की महाजनादेश यात्रा से पश्चिमी महाराष्ट्र के दो जिलों में केवल ‘महाविनाश’ हुआ: राकांपा

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Aug 14 2019 5:33PM
फडणवीस की महाजनादेश यात्रा से पश्चिमी महाराष्ट्र के दो जिलों में केवल ‘महाविनाश’ हुआ: राकांपा
Image Source: Google

महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा, ‘‘ यह इस सरकार का चरित्र है, इन्हें प्रचार और वोट की राजनीति करने में अधिक संतुष्टि मिलती है। उन्हें यह महाजनादेश शुरू करने के साथ ही उन सवालों के जवाब देने होंगे जो लोगों के दिमाग में हैं। ’’ गौरतलब है कि भाजपा नेता एवं ‘महाजनादेश यात्रा’ के प्रभारी सुजीत सिंह ठाकुर ने यात्रा दोबारा शुरू होने की जानकारी दी थी।

मुम्बई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस के अगले सप्ताह अपनी ‘महाजनादेश यात्रा’ दोबारा शुरू करने के फैसले पर विपक्ष ने निशाना साधते हुए कहा कि वह ऐसे समय में वोट की राजनीति कर रहे हैं जब राज्य के बाढ़ग्रस्त इलाकों में अब भी जनजीवन सामान्य नहीं हो पाया है।  राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख प्रवक्ता नवाब मलिक ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘‘महाजनादेश यात्रा’ से पश्चिमी महाराष्ट्र के दो जिलों कोल्हापुर और सांगली में केवल ‘महाविनाश’ हुआ।’’ मलिक ने आरोप लगाया, ‘‘ उन्होंने समय पर कोई निर्णय नहीं लिया (बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए) और कड़ी मेहनत नहीं की। अब वह फिर महाजनादेश के पीछे हैं। यह दिखाता है कि लोगों के दुख से ज्यादा उनके लिए केवल वोट मायने रखते हैं। यह काफी दुखद है।’’

इसे भी पढ़ें: फडणवीस 21 अगस्त से महाजनादेश यात्रा दोबारा शुरू करेंगे

महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा, ‘‘ यह इस सरकार का चरित्र है, इन्हें प्रचार और वोट की राजनीति करने में अधिक संतुष्टि मिलती है। उन्हें यह महाजनादेश शुरू करने के साथ ही उन सवालों के जवाब देने होंगे जो लोगों के दिमाग में हैं। ’’ गौरतलब है कि भाजपा नेता एवं ‘महाजनादेश यात्रा’ के प्रभारी सुजीत सिंह ठाकुर ने यात्रा दोबारा शुरू होने की जानकारी दी थी। उन्होंने कहा था ,‘‘मुख्यमंत्री 21 अगस्त से अपना अभियान फिर से शुरू करेंगे। ’’ ठाकुर ने बताया कि पूर्व में यात्रा का पहला चरण विदर्भ क्षेत्र और उत्तर महाराष्ट्र के नंदुरबार होते हुए नौ अगस्त को संपन्न होना था।

इसे भी पढ़ें: देवेंद्र फडणवीस और उनके मंत्री बाढ़ राहत के लिए दान करेंगे एक माह की सैलरी



अब नयी योजना में कोल्हापुर, पुणे, सांगली और सतारा को अभियान से बाहर कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि पहले की योजना के अनुसार कार्यक्रम का दूसरा चरण 17 अगस्त से शुरू होना था, जो अब 21 अगस्त से शुरू होगा। मुख्यमंत्री ने पूर्व में कहा था कि महाजनादेश यात्रा का मकसद राज्य की जनता को यह बताना है कि भाजपा नीत सरकार ने पांच सालों में क्या क्या काम किए हैं। इस वर्ष सितंबर-अक्टूबर में महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव होने हैं।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video