फर्जी डिग्री मामला: एबीवीपी के पूर्व डूसू अध्यक्ष अंकिव बसोया के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 20, 2018   20:18
फर्जी डिग्री मामला: एबीवीपी के पूर्व डूसू अध्यक्ष अंकिव बसोया के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज

आरएसएस से संबद्ध अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के कहने के बाद बसोया ने 15 दिसंबर को इस्तीफा दे दिया था। एबीवीपी ने आरोपों की जांच पूरी होने तक बसोया को संगठन से निलंबित कर दिया है।

नयी दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने दिल्ली विश्वविद्यालय में दाखिला लेने के लिए कथित तौर पर फर्जी डिग्री जमा करने पर एबीवीपी के पूर्व डूसू अध्यक्ष अंकिव बसोया के खिलाफ मंगलवार को प्राथमिकी दर्ज की। विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने सोमवार को इस संबंध में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। बौद्ध अध्ययन विभाग के प्रमुख के टी एस साराओ द्वारा दायर शिकायत के अनुसार बसोया मास्टर पाठ्यक्रम में दाखिला के लिए राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित प्रवेश परीक्षा में शामिल हुए थे।

शिकायत में कहा गया है कि इस परीक्षा में सफल होने के बाद बसोया ने एमए बौद्ध स्टडीज, पार्ट वन में प्रवेश लिया और तिरुवल्लुवर विश्वविद्यालय से कला स्नातक के छह सेमेस्टर के छह अंकपत्र पेश किए। साराओ ने शिकायत में कहा कि एमए (बौद्ध अध्ययन) में प्रवेश के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री जरूरी है।

शिकायत के अनुसार, इन अंकपत्रों के सत्यापन के अनुरोध के लिखित जवाब में तिरुवल्लुवर विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक ने कहा है कि बसोया द्वारा पेश अंकपत्र फर्जी है। उन्होंने कहा कि इस रिपोर्ट के आधार पर बसोया का दाखिला 14 नवंबर को रद्द कर दिया गया था।

बसोया सितंबर में डूसू के अध्यक्ष निर्वाचित हुए थे। आरएसएस से संबद्ध अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के कहने के बाद बसोया ने 15 दिसंबर को इस्तीफा दे दिया था। एबीवीपी ने आरोपों की जांच पूरी होने तक बसोया को संगठन से निलंबित कर दिया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...