परिवारों में दूरियां कम कम करेगी 'परिवार हेल्पलाइन'

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 29, 2020   17:47
परिवारों में दूरियां कम कम करेगी 'परिवार हेल्पलाइन'

अनिल गुप्ता ने आँनलाइन हुए इस शुभारंभ में अपने उद्बोधन में बताया कि परिवार हेल्पलाइन के माध्यम से काउंसलर कार्यकर्ता परिवार मित्र के रूप में परिवारो में तनाव एवं मतभेद दूर करने का प्रयास करेंगे। इस हेल्पलाइन के काम करने का आधार अपनी भारतीय संस्कृति में निहित सर्वे भवन्तु सुखिन: पर रहेगा।

नई दिल्ली। आज दिन प्रतिदिन बदलती जीवन शैली के कारण परिवार के सदस्यों के बीच बढ़ती दूरी और आज की परिस्थिति में पिछले तीन मास से जिस प्रकार परिवारों में नौकरी एवम व्यवसाय में आई अनियमितता व कोरोना संक्रमण के भय से परिवारों में अनेक उलझनें-निराशा एवम तनाव का वातावरण बन रहा है। इन परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए  हुए दिल्ली में 'परिवार चेतना मंच' ने एक ऑनलाइन कार्यक्रम में परिवारों में समस्या निदान के लिए एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। इस हेल्पलाइन ( 8595773300) के माध्यम से जिन परिवारों में किसी भी कारण से तनाव का वातावरण या मतभेद हैं उसको दूर करने के प्रयास व सहायता की जाएगी। 

इसे भी पढ़ें: चीन के ‘आक्रामक और हिंसक’ कार्य पर RSS का बयान, कठिन समय में भारत के नागरिक पूरी तरह सेना और सरकार के साथ खड़े

इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दिल्ली प्रान्त सह कार्यवाह अनिल गुप्ता द्वारा परिवार हेल्पलाइन का शुभारंभ किया गया। अनिल गुप्ता ने आँनलाइन हुए इस शुभारंभ में अपने उद्बोधन में बताया कि परिवार हेल्पलाइन के माध्यम से काउंसलर कार्यकर्ता परिवार मित्र के रूप में परिवारो में तनाव एवं मतभेद दूर करने का प्रयास करेंगे। इस हेल्पलाइन के काम करने का आधार अपनी भारतीय संस्कृति में निहित सर्वे भवन्तु सुखिन: पर रहेगा। यह हेल्पलाइन सुबह 9:00 से रात्रि 9:00 तक सभी दिन सक्रिय रहेगी। कार्यक्रम में कुटुम्ब प्रबोधन दिल्ली के ओमप्रकाश, भगवान दास, सुनील बजाज व प्रतिमा जी सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।