दिल्ली में किसानों की महापंचायत, चप्पे-चप्पे पर पुलिस का कड़ा पहरा, सीमाओं पर लगाए गए बैरिकेड्स

Farmers
ANI
अंकित सिंह । Aug 22, 2022 10:59AM
किसान मोर्चा की ओर से यह भी दावा किया जा रहा है कि अगर सरकार ने इससे पंचायत में किसी तरह का व्यवधान डालने की कोशिश की तो उसके लिए वह स्वयं जिम्मेदार होगी। इस महापंचायत के जरिए किसान कई मांग उठा सकते हैं। इसमें सबसे बड़ा मुद्दा एमएसपी का है।

सरकार के खिलाफ एक बार फिर से किसान लामबंद होते दिखाई दे रहे हैं। संयुक्त किसान मोर्चा अराजनैतिक के आह्वान पर आज दिल्ली के जंतर-मंतर पर किसान महापंचायत की एक बड़ी बैठक बुलाई गई है। इस बैठक को लेकर दिल्ली में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं। इस महापंचायत में शामिल होने के लिए अलग-अलग राज्यों से किसान दिल्ली की ओर रवाना हो चुके हैं। किसानों द्वारा बुलाए गए इस महापंचायत का उद्देश्य अपने मुद्दों के साथ-साथ युवाओं में बढ़ रही बेरोजगारी को लेकर सरकार तक अपनी बात पहुंचाना है। किसान महापंचायत को लेकर तैयारियां कई दिनों से चल रही थी। जानकारी के मुताबिक 1 दिन का यह महापंचायत कार्यक्रम होगा जो कि शांति और अनुशासन के साथ आयोजित किया जाएगा। खबर तो यह भी है कि इस महापंचायत के बाद राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को एक ज्ञापन भी सौंपा जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने KCR को बताया किसान विरोधी, बोले- हमारी सरकार बनी तो MSP पर खरीदेंगे चावल

किसान मोर्चा की ओर से यह भी दावा किया जा रहा है कि अगर सरकार ने इससे पंचायत में किसी तरह का व्यवधान डालने की कोशिश की तो उसके लिए वह स्वयं जिम्मेदार होगी। इस महापंचायत के जरिए किसान कई मांग उठा सकते हैं। इसमें सबसे बड़ा मुद्दा एमएसपी का है। इसके अलावा लखीमपुर खीरी नरसंहार के पीड़ित किसान परिवारों को इंसाफ मिले। वहीं, केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी की भी गिरफ्तारी की मांग की जा सकती है। किसानों की ओर से बिजली बिल 2022 को रद्द किए जाने की भी मांग की जा सकती है। वही गन्ने का समर्थन मूल्य बढ़ाए जाने की भी बात होगी। अग्निपथ योजना भी काफी अहम मुद्दा रहने वाला है। वहीं, किसानों के संगठन द्वारा बुलायी गई ‘महापंचायत’ के मद्देनजर सिंघु और गाजीपुर बॉर्डर समेत दिल्ली की सीमाओं पर सोमवार को सुरक्षा कड़ी कर दी गयी। पुलिस ने बताया कि राजधानी में प्रवेश कर रहे सभी वाहनों की तलाशी ली जा रही है और पुलिस कर्मियों को ‘‘सतर्क’’ रहने को कहा गया है। 

इसे भी पढ़ें: लखीमपुर खीरी में समाप्त हुआ किसानों का आंदोलन, भविष्य की रणनीति के लिए छह सितंबर को दिल्ली में बैठक

विशेष पुलिस आयुक्त (कानून एवं व्यवस्था) दीपेंद्र पाठक ने कहा, ‘‘हमने पर्याप्त बंदोबस्त किए हैं ताकि कानून एवं व्यवस्था बनी रहे और जान और माल को कोई नुकसान न पहुंचे।’’ पुलिस ने बताया कि जंतर मंतर पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है और अतिरिक्त अवरोधक लगाए गए हैं। वहां प्रवेश करने की कोशिश कर रहे हर व्यक्ति की व्यापक तलाशी ली जाएगी ताकि किसी भी अप्रिय घटना को रोका जा सके। उन्होंने बताया कि दिल्ली के कई हिस्सों में यातायात बाधित हो सकता है क्योंकि पुलिस ने सीमा चौकियों पर अवरोधक लगाए हैं। पुलिस ने ट्वीट कर वाहन चालकों से किसानों की महापंचायत के कारण टॉलस्टॉय मार्ग, संसद मार्ग, जनपथ रोड, अशोक रोड, कनॉट प्लेस के बाहरी सर्किल, बाबा खड़ग सिंह मार्ग और पंडित पंत मार्ग से यात्रा करने से बचने को कहा है। 

अधिकारियों ने बताया कि संयुक्त किसान मोर्चा और अन्य किसान संगठन महापंचायत का आयोजन कर रहे हैं और वे बाहरी जिले से होकर गुजरेंगे, जिसमें गाजियाबाद में गाजीपुर बॉर्डर भी आता है। पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘इस संबंध में टिकरी बॉर्डर, प्रमुख मार्गों, रेल की पटरियों और मेट्रो स्टेशनों पर स्थानीय पुलिस और बाहरी बल की पर्याप्त तैनाती की गयी है ताकि किसी अप्रिय घटना से बचा जा सके।’’ दिल्ली पुलिस ने जंतर मंतर पर बेरोजगारी को लेकर एक प्रदर्शन में भाग लेने के लिए राजधानी में प्रवेश करने की कोशिश कर रहे किसान नेता राकेश टिकैत को रविवार को गाजीपुर बॉर्डर पर हिरासत में ले लिया था। उन्होंने आरोप लगाया था कि दिल्ली पुलिस केंद्र के इशारे पर काम कर रही है और उन्हें बेरोजगार युवकों से मुलाकात करने नहीं दिया गया।

अन्य न्यूज़