भूमि अधिकारों, सूखा राहत के लिए मुंबई के आजाद मैदान तक किसानों का मार्च

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2018   15:46
भूमि अधिकारों, सूखा राहत के लिए मुंबई के आजाद मैदान तक किसानों का मार्च

प्रदर्शन का आयोजन लोक संघर्ष मोर्चा नामक संगठन ने किया है। पानी के क्षेत्र में काम करने वाले मैग्सायसाय पुरस्कार विजेता डॉ राजेंद्र सिंह भी मार्च में शामिल रहे।

मुंबई। सूखा राहत और आदिवासियों को भूमि अधिकार देने की मांग कर रहे हजारों किसान बृहस्पतिवार को दक्षिण मुंबई के आजाद मैदान पहुंचे। आठ महीने पहले भी इस जगह पर ऐसा ही प्रदर्शन किया गया था। बुधवार को ठाणे से मुंबई का दो दिवसीय मार्च शुरू करने वाले किसानों और आदिवासियों ने कल की रात मुंबई के सायन इलाके के सोमैया मैदान में गुजारी। आज सुबह वे वहां से दादर और जेजे फ्लाईओवर होते हुए आजाद मैदान के लिए निकले।

प्रदर्शन का आयोजन लोक संघर्ष मोर्चा नामक संगठन ने किया है। पानी के क्षेत्र में काम करने वाले मैग्सायसाय पुरस्कार विजेता डॉ राजेंद्र सिंह भी मार्च में शामिल रहे। उन्होंने सूखे के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराया और इसे मानव-जनित करार दिया। मोर्चा के एक नेता ने कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मोर्चा नेताओं को चर्चा के लिए बृहस्पतिवार दोपहर बाद विधान भवन में आमंत्रित किया है। विधानसभा में अभी शीतकालीन सत्र चल रहा है। उन्होंने बताया कि मोर्चा में भाग लेने वाले अधिकतर किसान ठाणे, भुसावल और मराठवाड़ा क्षेत्रों के हैं।

किसान स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करने की मांग कर रहे हैं जिसके मुताबिक, किसानों को पानी और भूमि जैसे संसाधनों पर सुनिश्चित पहुंच और नियंत्रण मिलना चाहिए। मोर्चा की महासचिव प्रतिभा शिंदे ने कहा, ‘‘हम राज्य सरकार से अपनी दीर्घकालिक मांगों को पूरा करने के लिए लगातार कह रहे हैं, लेकिन प्रतिक्रिया लचर रही। हम यह आंदोलन शुरू करने के लिए मजबूर हुए।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।