दूध बढाने के लिये भैंस को ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन लगाने के आरोप में पांच पर मामला दर्ज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 8, 2022   19:47
दूध बढाने के लिये भैंस को ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन लगाने के आरोप में पांच पर मामला दर्ज
Google Creative Commons.

पुलिस ने रविवार को यह जानकारी दी। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पालनपुर तालुका के खोड़ला और चरोतार गांवों के पांच किसानों के खिलाफ पशु क्रूरता रोकथाम अधिनियम की संबंधित धाराओं एवं भारतीय दंड संहिता की धारा 429 (जानवरों को मारना या अपंग करना) के अधीन प्राथमिकी दर्ज की गई है।

पालनपुर (गुजरात)| गुजरात के बनासकांठा जिले के दो गांवों के पांच डेयरी किसानों पर दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए भैंसों को कथित तौर पर ऑक्सीटोसिन का इंजेक्शन लगाने का मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस ने रविवार को यह जानकारी दी। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पालनपुर तालुका के खोड़ला और चरोतार गांवों के पांच किसानों के खिलाफ पशु क्रूरता रोकथाम अधिनियम की संबंधित धाराओं एवं भारतीय दंड संहिता की धारा 429 (जानवरों को मारना या अपंग करना) के अधीन प्राथमिकी दर्ज की गई है।

पालनपुर तालुका थाने के निरीक्षक बीआर पटेल ने बताया कि पुलिस और पशु चिकित्सा और खाद्य एवं औषधि विभागों के अधिकारियों द्वारा संयुक्त रूप से की गई छापेमारी में किसानों के कब्जे से पांच बोतल संदिग्ध ऑक्सीटोसिन बरामद होने के बाद उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

पटेल ने बताया कि दो लोगों ने शिकायत की थी कि ये किसान दुधारू भैंसों पर दवा का इस्तेमाल कर रहे हैं और उन्होंने उन गांवों में तबेलों में ऐसा होते देखा। उन्होंने बताया कि बोतलों से नमूने परीक्षण के लिए भेजे गए हैं और आगे की कार्रवाई ऑक्सीटोसिन होने की पुष्टि के बाद ही होगी।

ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन की बिक्री को ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स नियमों की अनुसूची एच के तहत नियंत्रित किया जाता है, और इसके लिए चिकित्सकों के पर्चे की आवश्यकता होती है। यह दवा मवेशियों के साथ-साथ उनका दूध पीने वालों पर प्रतिकूल प्रभाव डालने के लिए जानी जाती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...